Read latest updates about "शामली" - Page 1

  • बदमाशों का काल बनी शामली पुलिस, 15 दिन में तीन बदमाशों का एनकाउंटर

    लखनऊ। पश्चिम यूपी में अब बदमाशों की शामत आ गई है, जहां एक ओर विपक्ष कानून-व्यवस्था को लेकर मुद्दा बना रहा है, वहीं दूसरी ओर शामली पुलिस ने बीते 15 दिनों में तीन बदमाशों को लूट के दौरान मुठभेड़ में मार गिराया। जबकि इन मुठभेड़ों में कई पुलिसवाले भी घायल हुए, जिन्हें बदमाशों ने गोली मार दी। शामली...

  • किसानों को भा रहा ‘नलाई वाला हल’ जाने क्यों

    शामली। गन्ने की फसल में 'नलाई वाला हल' किसानों को बहुत पसंद आ रहा है क्योंकि इससे कम समय में ज्यादा से ज्यादा भूमि की निराई गुड़ाई की जा सकती है। इसमें न डीजल लगता है और न बिजली खर्च होती है, एक ही आदमी आसानी से इसे चला सकता है। गन्ने के साथ नाली वाली दूसरी फसलों में भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।...

  • सड़क पर लड़ाई कर रहा था प्रेमी जोड़ा, थाने में कोतवाल ने दिलवाए सात फेरे

    शामली। पुलिस का नाम सुनते ही कपल्स खौफ में आ जाते हैं लेकिन यूपी के शामली में पुलिस ने प्यार करने वाले एक जो़ड़े को हमेशा के लिए मिलाने का काम किया है।शामली की सदर कोतवाली पुलिस ने जाति-बिरादरी को दरकिनार कर एक प्रेमी युगल जोड़े की कोतवाली में स्थित मंदिर में शादी करा दी। प्रेमी युगल की प्रेम कहानी...

  • रालोद के सहेंद्र रमाला हो सकते हैं भाजपा में शामिल

    अजेंद्र मलिक, स्वयं कम्यूनिटी जर्नलिस्टशामली।बाग़पत की छपरौली विधानसभा सीट से चुनाव जीतकर रालोद पार्टी को एकमात्र सीट देने वाले नेता सहेंद्र रमाला भाजपा में शामिल हो सकते हैं।सहेंद्र रमाला छपरौली विधानसभा सीट से भाजपा के सतेंद्र तुगाना को 3,701 वोटो से हराकर चुनाव जीते थें। इस वक्त जिले में इस...

  • क्यों हैं इन लड़कियों के हांथों में बन्दूकें

    शामली। चौदह साल की नेहा ने जब मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण लेना शुरु किया तो घर वालों के साथ ही अगल-बगल के लोगों ने भी मना किया कि तुम बाहर खेलने नहीं जा सकती हो, लेकिनलोगों के विरोध के बावजूद नेहा ने प्रशिक्षण लेना बंद नहीं किया बल्कि प्रदेश स्तर पर भी अपनी पहचान बनाई।नेहा की तरह ही शामली ज़िले के कई...

  • मनोरंजन

    शामली ज़िले के जलालपुर गाँव में बच्चों को तांगे पर सैर कराता युवक। 

  • चौसर का खेल

    शामली ज़िले के गोहरनी गाँव में चौसर खेलते लोग।

  • पश्चिमी यूपी की लड़कियां चाहती हैं आजादी और हक

    शामली/मेरठ। पश्चिमी उत्तर प्रदेश की लड़कियां अब मुख़र हो रही हैं। स्कूल और कॉलेज जाने वाली लड़कियां अपने आसपास की समस्याओं से परेशान तो हैं लेकिन वो अपनी आजादी और हक के लिए भी बेबाकी से अपनी आवाज़ उठा रही हैं।ग्रामीण इलाके के छात्र-छात्राओं को छात्र पत्रकार और स्वावलंबी बनाने के उद्देश्य से शुरू...

Share it
Top