खाद्य सुरक्षा से जुड़ी वो 12 बातें, जो आपको जानना चाहिए 

खाद्य सुरक्षा से जुड़ी वो 12 बातें, जो आपको जानना चाहिए एशिया और पैसिफिक क्षेत्र में खाद्य सुरक्षा से जुड़ी 12 बातें...

नई दिल्ली। 16 अक्टूबर को हर साल विश्व खाद्य दिवस मनाया जाता है। हम आपको बता रहे हैं एशिया और पैसिफिक क्षेत्र में खाद्य सुरक्षा से जुड़ी 12 बातें...

1. एशिया और पैसिफिक दुनिया में खाद्य का सबसे बड़ा बाज़ार है। एक अनुमान के मुताबिक, 2030 तक पूरे विश्व की आधी बीफ और पोल्ट्री उत्पादों की खपत एशिया पैसिफक क्षेत्र में होगी।

2. 2016 में पूरे विश्व में 815 मिलियन यानि 81.5 करोड़ लोग भूखे रहने के कारण या कम खाना मिलने के कारण बीमार हो गए, जबकि 2015 में यह आंकड़ा 77.7 करोड़ था। अगर इस स्थिति पर लगाम न लगाई गई तो यह ग्रामीण जनसंख्या का शहरी क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर पलायन का कारण हो सकती है।

यह भी पढ़ें : विश्व खाद्य दिवस : पूरे साल में ब्रिटेन के कुल खाद्य उत्पादन के बराबर खाना बर्बाद कर देते हैं हम

3. 2030 तक, जलवायु परिवर्तन से संबंधित कुपोषण के कारण विकासशील एशिया में 26,000 बच्चों की मौत हो सकती है।

4. मध्य एशिया में, खाद्य सुरक्षा के लिए जलवायु खतरों ने कृषि में आजीविका के विकल्प को कम कर दिया, संभावित रूप से इस कारण ने इस क्षेत्र में या विदेश में प्रवास को बढ़ावा दिया।

5. द नेक्सट माइग्रेंट वेब के अनुसार, विकासशील एशिया में, कम वर्षा के कारण पानी में कमी, लवणता, ग्लेशियर के पीछे हटने और बंजर के कारण 2060 तक पानी के भंडार में कमी होगी व खाने का सामान और पानी की कीमत तेज़ी से बढ़ेगी।

6. एशिया और प्रशांत क्षेत्र में मानव प्रणालियों पर जलवायु परिवर्तन प्रभाव पर की गई रिसर्च के अनुसार, फिलीपींस, थाईलैंड और वियतनाम में चावल की पैदावार जलवायु परिवर्तन से निपटने के प्रयासों के बिना इस शताब्दी के अंत तक 50% तक कम हो सकती है।

7. विकासशील एशिया के खेतों में मज़दूरी करना मुश्किल भरा काम हो गया है। 2004-2005 में भारत के कृषि कार्यबल जहां 25.9 करोड़ व्यक्ति था वहीं 2011 - 2012 में ये घटकर 22.8 करोड़ व्यक्ति पर आ गया।

यह भी पढ़ें : विश्व खाद्य दिवस विशेष : गेहूं के उत्पादन को घटा देगा जलवायु परिवर्तन

8. मेकॉन्ग डेल्टा में, धान उगाने वाला एक बड़े क्षेत्र में 0.5 मीटर और 4 मीटर के बीच सामान्य गहराई से अधिक बाढ़ लगातार आ रही हैं जिससे यहां खाद्य असुरक्षा बढ़ रही है।

9. 'एशियाई सिंचाई के वित्तपोषण: हमारे सामने विकल्प' नामक रिपोर्ट के अनुसार, विकासशील एशिया को अपनी तेजी से बढ़ती आबादी को खिलाने के लिए सिंचाई में सुधार की आवश्यकता है। अपग्रेड की गई सिंचाई प्रणालियों से प्रति बूंद और अधिक फसल उत्पादन चाहिए।

10. देश, महिलाओं को संसाधन, शिक्षा और बाज़ार में समान अवसर देकर कम निवेश में अधिक खाद्यन्न उत्पादन कर सकता है।

यह भी पढ़ें : बिना लाइसेंस के काम कर रहे 30 फीसदी खाद्य कारोबारी

11. एशिया में भविष्य के खेत नामक रिपोर्ट के अनुसार, आधुनिक कृषि सहकारी समितियां, किसानों को जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को समझने और उसके अनुकूल करने में मदद करके, खाद्य आपूर्ति को बढ़ा सकती हैं और किसानों की आमदनी को बढ़ावा भी दे सकती।

12. भूमि आदि के अधिकार का नियम या प्रणाली व प्रवास नीतियों को पूरे क्षेत्र में फिर से जांच करने की जरूरत है, ताकि छोटे-छोटे किसानों को संगठित किया जा सके जिससे वे कम भोजन के साथ अधिक भोजन कर सकें।

यह भी पढ़ें : World Food Day वे पांच फसलें जिनसे भरता है आधी से ज़्यादा दुनिया का पेट

Share it
Top