श्रीलंका बाढ़ : भारत ने राहत सामग्री भेजी, करीब 120 लोगों की मौत

श्रीलंका बाढ़ : भारत ने राहत सामग्री भेजी, करीब 120 लोगों की मौतश्रीलंका में बाढ़ का एक दृश्य।

कोलंबो (भाषा)। श्रीलंका में आयी भीषण बाढ़ के दौरान सहायता के लिए भारत राहत सामग्री भेजी है और बचावकर्मी वहां राहत कार्यों में जुट चुके हैं। अभी तक बाढ़ में करीब 120 लोगों की मौत हुई है और करीब पांच लाख लोग विस्थापित हुए हैं। गौरतलब है कि वर्ष 2003 के बाद यह द्वीपीय राष्ट्र में आयी सबसे भीषण बाढ़ है।

आपदा प्रबंधन केंद्र ने केलानी नदी के किनारे और कोल्लोनावा, कादुवेला, वेल्लामपीटिया, केलानिया, बियागामा, सेदावत्ते, डोम्पे, हनवेला, पादुक्का और अविस्सावेला संभागीय सचिवालय में रहने वाले लोगों को तुरंत सुरक्षित स्थान पर जाने की चेतावनी दी है। स्वास्थ्य मंत्री राजीथा सेनारत्ने ने कहा कि बाढ़ और भूस्खलन के कारण करीब पांच लाख लोग विस्थापित हुए हैं। उन्होंने कहा, अभी तक 119 लोगों की मौत हुई है, जबकि 150 से ज्यादा लोग लापता हैं।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

सेनारत्ने ने कहा, ‘‘185 राहत शिविरों में कुल 4,93,455 लोग रह रहे हैं। उन्हें स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया करायी जा रही हैं।'' बृहस्पतिवार की रात से ही दक्षिण मानसून ने यहां भीषण तबाही मचाई है। इससे देश के 25 में से 14 जिले प्रभावित हैं। इससे सबसे ज्यादा दक्षिण-पश्चिमी क्षेत्र में रत्नापुरा प्रभावित है. 3,50,000 से ज्यादा लोगों को बिजली नहीं मिल रही है। सिंचाई विभाग के अधिकारियों का कहना है कि ज्यादातर मुख्य नदियां उफान पर हैं और अधिक क्षेत्रों में पानी भरने, बाढ आने की आशंका है। थल सेना के 1000 जवानों सहित श्रीलंका की तीनों सेनाओं के जवान राहत एवं बचाव अभियान में जुटे हैं। गाले के नेलुवा इलाके में बचाव अभियान के दौरान हेलिकॉप्टर से गिरने से श्रीलंकाई वायुसेना के एक जवान की मौत हो गई।

ये भी पढ़ें : श्रीलंका में 90 लोगों की मौत का कारण बनी 40 वर्ष बाद हुई रिकॉर्ड बारिश, मोदी ने बढ़ाए मदद के लिए हाथ

मौसम विभाग ने बताया कि बारिश और हवा चलने का मौसम जारी रहने की आशंका है। आपदा प्रबंधन केंद्र का कहना है, ‘‘पश्चिमी, सबरागामुवा, दक्षिणी, मध्य और पश्चिमोत्तर प्रांतों में बारिश होने तथा गरज के साथ छींटे पड़ने की संभावना है।'' श्रीलंका के विदेश मंत्रालय ने आपदा प्रबंधन मंत्रालय के साथ मिलकर संयुक्त राष्ट्र, अंतरराष्ट्रीय खोज एवं बचाव सलाहकार समूह और पडोसी देशों से अपील की है कि वे प्रभावित लोगों को सहायता मुहैया करवायें, विशेष रूप से राहत एवं बचाव के क्षेत्र में।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top