इस मां और बेटी की उम्र में है बस एक साल का फर्क, बन गया वर्ल्ड रिकॉर्ड

Anusha MishraAnusha Mishra   20 Dec 2017 11:58 AM GMT

इस मां और बेटी की उम्र में है बस एक साल का फर्क, बन गया वर्ल्ड रिकॉर्डएम्मा अपने मां और पापा के साथ

उम्र कुछ लोगों के लिए सिर्फ एक नंबर होती है ये बात आपने भी कई लोगों के मुंह से सुनी होगी लेकिन इस दुनिया में वाकई में कुछ लोग ऐसे हैं जिनके लिए उम्र एक नंबर ही है। अब टेनेसी में रहने वाली एम्मा रेन ग्रिबसन को ही ले लीजिए।

एम्मा का जन्म इस साल 25 नवंबर को हुआ लेकिन खास बात ये ही है कि उनका जन्म जिस भ्रूण से हुआ वो 14 अक्टूबर 1992 का था। है न चौंकने वाली बात।

अमेरिकी न्यूज़ पोर्टल सीएनएन के मुताबिक एम्मा के पेरेंट्स टीना और बेंजामिन गिबसन को जब 13 मार्च को राष्ट्रीय भ्रूण दान केंद्र में भ्रूण प्रयोगशाला के निदेशक, कैरोल सोमेरफेल्ट ने भ्रूण की उम्र के बारे में बताया तो ये उनके लिए खुशी के साथ - साथ चौंकाने वाली बात भी थी। सोमेरफेल्ट कहते हैं कि यह एक रिकॉर्ड है। इससे पहले सबसे पुराने सुरक्षित भ्रूण की उम्र 20 साल थी।

यह भी पढ़ें : अद्भुत: तस्वीरों में देखिए, कैसे 12 साल की बच्ची ने कराया अपनी मां का प्रसव

सीएनएन से बात करते हुए टीना ने कहा - क्या आपको पता है कि मेरी उम्र भी 25 साल ही है? ये भ्रूण और मैं बेस्ट फ्रेंड हैं। मैं सिर्फ एक बच्चा चाहती थी, मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि ये एक वर्ल्ड रिकॉर्ड या नहीं। वह कहती हैं कि हम बस ऊपर वाले के शुक्रगुज़ार हैं और खुद को समृद्ध महसूस कर रहे हैं। एम्मा भगवान की तरफ से सबसे कीमती क्रिसमस गिफ्ट है।

एम्मा के पिता बेंजामिन कहते हैं, ''भले ही बच्ची में मेरे जींस नहीं हैं लेकिन मुझे वो बिल्कुल अपनी ही लगती है। उसके पैदा होने के साथ ही मुझे उससे प्यार हो गया था। एम्मा की कहानी गिब्सन के उसे गोद लेने से बहुत पहले ही शुरू हो चुकी थी। एम्मा और उसके जैसे चार और भ्रूण को एक जोड़े ने भ्रूण भंडारण में छोड़ दिया था ताकि उनका इनविट्रो फर्टिलाइजेशन हो सके और वे जोड़े जो किसी कारणवश माता -पिता नहीं बन पाते उन्हें बच्चा मिल सके।

यह भी पढ़ें : अमेरिका की एक मां ने बेटी के लिए लिखा ऐसा ख़त, हर बेटी को होती है जिसकी चाहत

टीना बताती हैं कि उन्होंने सात साल पहले बेंजामिन से शादी की थी। उन्हें सिस्टिक फाइब्रोसिस था, जिसमें इनफर्टिलिटी यानि बांझपन सामान्य सी बात है। हम साथ में खुश थे और पहले ही तय कर लिया था कि हम बच्चे को गोद लेंगे।

पहले नहीं थी तैयार

टीना कहती हैं कि मेरे पापा ने समाचारों में सुना था कि अब भ्रूण को भी गोद लिया जा सकता है। डॉक्टर बस आपके गर्भाशय में वो भ्रूण इम्प्लांट कर देते हैं और आप गर्भवती हो सकती हैं। मुझे जब उन्होंने इसके बारे में बताया तो मैंने कहा कि ये अच्छा है लेकिन हम ये नहीं करना चाहते। लेकिन इसके बाद मैं अपने पापा की बात पर विचार करने से खुद को नहीं रोक पाई। उनकी बात बार बार मेरे दिमाग में आ रही थी।

कई घंटों तक सोचने के बाद मैंने बेंजामिन से पूछा कि वो इसके बारे में क्या सोचते हैं, और बेंजामिन भी वही सोच रहे थे जो मैं। इसके बाद टीना ने इंटरनेट पर सर्च करना शुरू किया। उन्हें पता चला कि टैनेसी के नॉक्सविले में स्थित राष्ट्रीय भ्रूण दान केंद्र में फ्रोज़ेन भ्रूण को गर्भाशय में ट्रांसफर किया जाता है लेकिन फिर भी वो पूरी तरह से तैयार नहीं थीं। कई हफ्ते बीत गए। पिछले साल अगस्त में उन्होंने बेंजामिन से कहा कि मुझे लगता है कि हमें एम्ब्रियो एडॉप्शन के लिए एप्लीकेशन दे देनी चाहिए। उन्होंने भी हां, कहा और उसी रात हमने एप्लीकेशन जमा कर दी।

और बन गया वर्ल्ड रिकॉर्ड

पिछले साल दिसंबर में उनका चिकित्सकीय परीक्षण शुरू हुआ जिसमें ये देखा गया कि उनका गर्भाशय इसके लिए तैयार या नहीं। जनवरी में टेस्ट पूरे हो गए और कुछ दिक्कतों को दूर करने के बाद, टीना तैयार थीं उस भ्रूण को अपने गर्भाशय में इंप्लांट कराने के लिए और इसके कुछ महीनों बाद ये काम भी पूरा हो गया। अंतत: 25 नवंबर को टीना ने एम्मा को जन्म दिया और ये एक वर्ल्ड रिकॉर्ड बन गया।

यह भी पढ़ें : एक महिला की मुश्किलों की कहानी... बेटी से मां बनने तक और मां से फिर बेटी बनने तक

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top