शर्मनाक: तीन बार रेप, तीन बार एसिड अटैक और अब पिलाया तेजाब

Basant KumarBasant Kumar   25 March 2017 7:25 PM GMT

शर्मनाक:  तीन बार रेप, तीन बार एसिड अटैक और अब पिलाया तेजाबपीड़िता का केजीएमयू में चल रहा इलाज।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। तीन बार दुष्कर्म, तीन बार तेजाब से हमला, इसके बाद भी पीड़िता की हिम्मत नहीं तोड़ पाए तो आरोपियों ने उसे ट्रेन में जबरन तेजाब पिला दिया। पीड़िता इस समय जिंदगी और मौत के बीच केजीएमयू में जूझ रही है।

मामला शीरोज कैफे में काम करने वाली एसिड अटैक पीड़िता रजोली (काल्पनिक नाम) से जुड़़ा है। 19 जनवरी को रायबरेली जिले से विनीता सिंह नाम से शिरोज हैंगआउट कैफ़े में एक धमकी भरा पत्र आता है जिसमें लिखा होता है, “सविनय निवेदन है कि रजोली (काल्पनिक नाम) को अपनी कम्पनी से निकाल दो, नहीं तो केस वापस करवा लो। अगर यह सब नहीं किया तो रजोली के शरीर में खून नहीं तेजाब दौड़ेगा।”

खत आने के बाद एसएसपी मंजिल सैनी और तत्कालीन डीएम सत्येन्द्र सिंह ने सुरक्षा देने के पीड़िता को आश्वासन दिया था, लेकिन धमकी के दो महीने बाद ही रजोली को गुरुवार को ट्रेन के अंदर दो अज्ञात लोगों ने तेजाब पिला दिया। होली में अपने घर रायबरेली गई रजोली गुरुवार को ट्रेन से वापस लखनऊ लौट रही थी।

पत्र की धमकी पर गौर करें तो आरोपियों के इरादे साफ थे लेकिन शायद पुलिस ही अपने आश्वासन को याद नहीं रख पाई। अगर उसे सुरक्षा मिली होती तो शायद उसके साथ आरोपी इतनी जघन्य वारदात को अंजाम नहीं दे पाते। रजोली को इस बात का हमेशा डर था कि आरोपी उसकी हत्या कर सकते हैं। 20 जनवरी 2017 को उसने गाँव कनेक्शन को बताया था, "अगर मेरे बच्चे नहीं होते तो मैं आत्महत्या कर लेती। मैं अपने बच्चों के लिए ही जलालत की जिंदगी जी रही हूं। मेरे जिस्म को उन्होंने नोचा, जलाया और काटा गया। 2008 से मैं मर-मर के जी रही हूं।"

शिरोज हैंगआउट कैफ़े से जुड़े दुर्गा शुक्ला ने बताया, "ट्रेन से लौटने के दौरान उन पर हमला हुआ है। स्थिति बेहद खराब है। अभी रजोली बोल भी नहीं पा रही हैं। ट्रेन से लौट रही रजोली को चारबाग के आसपास तेज़ाब पिलाया गया। ट्रेन के रुकने के बाद वो बदहवास होकर भागी, तब उसे महिला जीआरपी ने अस्पताल में भर्ती कराया। अस्पताल में भर्ती कराने के बाद शिरोज कैफे को फोनकर सूचना दी गई।"

छाँव फाउंडेशन से संस्थापक सदस्य आशीष शुक्ला ने बताया, ‘रजोली के साथ कई घटनाएं हो चुकी हैं, लेकिन प्रशासन के ढुलमुल रवैये से एकबार फिर घटना का शिकार होना पड़ा है। जब खत आया तो प्रशासन ने सुरक्षा देंगे के सम्बन्ध में कहा था, लेकिन कभी भी गंभीरता से काम नहीं हुआ।'

ये भी पढ़ें- पिछले पांच वर्षों में दिल्ली समेत कई राज्यों में बढ़े एसिड अटैक के मामले

ये है पीड़िता की आपबीती

रायबरेली के ऊँचाहार की रहने वाली पीड़िता अपने पति के साथ इंदौर में रहती थी। एक घटना में पति का हाथ कट गया तो वो लोग परिवार सहित वापस अपने गाँव आ गए। पीड़िता का आरोप था, “2008 को मैं अपने एक वर्षीय बेटे को गोद में लेकर टीवी देख रही थी। थोड़ी देरी बाद गाँव का एक लड़का भोनू सिंह घर टीवी देखने आया। इसी दौरान भोनू ने मुझसे छेड़खानी करने की कोशिश की तो मैंने भोनू सिंह को लात मार दिया।” वो आगे बताती हैं कि इस घटना के एक महीने बाद भोनू सिंह के परिवार के लोगों ने मेरे साथ बलात्कार किया। फिर 2011 में मेरे ऊपर तेजाब डाल दिया। ऐसा उन्होंने कई बार मेरे साथ किया।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

कई बार की थी एसएसपी से बात करने की कोशिश

रजोली को इस बात का डर था कि उसके दुश्मन उसकी हत्या कर सकते हैं। गाँव जाने से पहले उसने इसका जिक्र अपने एक दोस्त से किया था। नाम नहीं छापने की शर्त पर उसके दोस्त ने बताया कि रजोली गाँव जाने से पहले एसएसपी मंजिल सैनी से बातचीत करना चाहती थी, लेकिन कई बार फोन करने के बाद भी एसएसपी ऑफिस के लोगों ने उसकी बातचीत मंजिल सैनी से नहीं कराई थी।

पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा

पुलिस ने अज्ञात आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। चारबाग के जीआरपी इंस्पेक्टर ने बताया कि पहले भी एसिड अटैक का शिकार हो चुकी विमला सुबह मोहनलालगंज से गंगा गोमती ट्रेन से लखनऊ आ रही थी तभी रास्ते में दो अज्ञात बदमाश ट्रेन में चढे़ और विमला को पकड़ कर पहले पीटा। इसके बाद एक ने उसे पकड़ लिया और दूसरे ने उसे जबरन एसिड पिला दी। ट्रेन में ये सब देख रहे लोगों ने उसकी कोई सहायता नहीं की।

ये भी पढ़ें- घर में शौचालय होता तो एसिड अटैक का शिकार न बनती सीमा

जब ट्रेन चारबाग स्टेशन पहुंची तो वह उतर कर जीआरपी थाने की तरफ भागी लेकिन वह अर्धमूछिच्त अवस्था में थी ,तभी एक महिला दरोगा की नजर उस पर पड़ गयी और उसने इसकी जानकारी थाने में देने के साथ ही तुरन्त 108 एंबुलेंस को दी और फिर उसे ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया। जीआरपी पुलिस ने बताया कि महिला की तहरीर पर अज्ञात दो बदमाशों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top