सीरिया के हवाई ठिकानों पर दागी गईं मिसाइलें, मारे गए 100 से ज्यादा लोग 

सीरिया के हवाई ठिकानों पर दागी गईं मिसाइलें, मारे गए 100 से ज्यादा लोग अमेरिका ने सीरिया पर किया मिसाइल अटैक।

लखनऊ। सीरिया में हुए रासायनिक हमले के बाद अमेरिका ने भी हवाई हमला शुरू कर दिया है। बृहस्पतिवार रात से अब तक अमेरिका ने सीरियाई सरकार के खिलाफ उसके हवाई ठिकानों पर 50 से ज्यादा मिसाइलें दागी हैं। इस हमले में 30 बच्चे और 20 महिलाओं के साथ 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ऐसा पहली बार हुआ है कि राष्ट्रपति बनने के बाद डोनाल्ड ट्रंप ने सीरियाई सरकार के खिलाफ सैन्य कार्रवाई का आदेश दिया है। हमले में 400 से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं। अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक सीरियाई सरकार की ओर से किए गए रासायनिक हमले के जवाब में इस तरह का कदम ट्रंप सरकार की ओर से उठाया गया है। वहीं इस हमले के विरोध में सीरियाई मीडिया ने इसे आक्रमण करार दिया है।

सीरिया के हवाई ठिकानों पर ‘टॉमहॉक’ मिसालइलें दागी गईं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सीरिया के इडलिब में रासायनिक हमले के लिए सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल-असद को जिम्मेदार ठहराया था। संयुक्त राष्ट्र की बैठक में सीरिया के खिलाफ कार्रवाई करने की सहमति नहीं बनी। उसी वक्त अमेरिका ने साफ कर दिया था कि अगर यूएन अपनी जिम्मेदारी नहीं उठाता है, तो वह खुद ही सीरियाई सरकार के खिलाफ जाएंगे। यही वजह है कि अमेरिका ने ये हमला किया।

‘सीरिया के हित में है ये हमला’

ट्रंप ने इस हमले को सीरिया के हित में बताया है। उन्होंने सीरियाई नागरिकों से इस बात की अपील की है कि वे सब अमेरिका के इस फैसले का साथ दें और ट्रंप की मदद करें। ट्रंप का मानना है कि सीरिया में हत्याओं को बंद करने के लिए नागरिकों का साथ बहुत जरूरी है। ट्रंप ने सीरियाई सरकार के प्रतिबंधित रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा,“मैंने सीरिया में हवाई हमले का आदेश दिया है। बशर ने कई लोगों को मौत की नींद सुला दिया, जिसके चलते मुझे सोचने पर मजबूर होना पड़ा।”

इस हमले के जरिए बाकी देशों को मिला कड़ा संदेश

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने सीरिया, यमन और इराक में सैन्य कार्रवाई का आदेश दिया। इससे उसने उत्तर कोरिया और ईरान जैसे देशों को भी कड़ा संदेश दिया है कि अगर कोई देश अंतरराष्ट्रीय कानूनों का उल्लंघन करता है, तो उसके खिलाफ इसी तरह की सख्त कार्रवाई की जाएगी।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top