दुनिया

30 साल में पहली बार गाज़ा में एक रात के लिए लोगो‍ं ने देखी फिल्म

लखनऊ। लंबे समय से तनावपूर्ण स्थिति का सामना कर रहे गाज़ा में शनिवार रात खुशी का माहौल था। 30 साल बाद फिलिस्तीन के गाज़ा इलाके में शनिवार रात को फिल्म की विशेष स्क्रीनिंग की गई। द गार्जियन में प्रकाशित खबर के अनुसार, गाज़ा के सबसे पुराने सिनेमा हॉल 'समेर' में केवल एक रात के लिए चली इस फिल्म में करीब 300 लोग देखने गए थे। फिल्म का नाम 10 ईयर्स है जो इजरायल की जेलों में बंद फिलिस्तीनी कैदियों पर आधारित थी।

ये भी पढ़ें- ट्रंप की धमकी के बाद नागरिकों को बंदूक चलाना सीखा रहा है वेनेजुएला

गाज़ा में पिछले 10 साल से इस्लामिक ग्रुप हमास का शासन रहा है और यहां वर्तमान में फिलिस्तीनी के उस क्षेत्र में जहां इजरायल नाकाबंदी के तहत 20 लाख लोग तंग हालात में रहते हैं, कोई सिनेमा नहीं है। शनिवार को दिखाई गई फिल्म का निर्माण गाजा में कुछ स्वयंसेवक अभिनेताओं के साथ किया था, जिसमें इजरायल की जेलों में बंद फिलीस्तीनी कैदियों की कहानी बयां की गई है।

फिल्में देखना और पार्कों में घूमना चाहते हैं गाज़ा के लोग

फिल्म स्क्रीनिंग के आयोजक गंगा सल्मी ने द गार्जियन से बातचीत में बताया, ‘गाजा में सिनेमा के विचार को वापस लाने के लिए पुरजोर प्रयासों के बाद प्रतीकात्मक रूप से शनिवार को एक रात के लिए सिनेमा का आयोजन किया गया है।’ फिल्म देखने पहुंचे एक दर्शक जौदत अबू रमजान ने बताया कि वह गाजा में एक स्थायी सिनेमा देखना चाहते हैं। अपनी इच्छा जाहिर करते हुए उन्होंने कहा, ‘हम लोग भी फिल्म देखने सिनेमाघर जाना चाहते हैं, सार्वजनिक स्थानों और पार्कों के बीच रहना और सामान्य लोगों की तरह जीवन बिताना चाहते हैं।

ये भी पढ़ें- भारत में तीन तलाक़ पर बैन: पाकिस्तानी नागरिकों ने दी ये प्रतिक्रिया

1960 मेंं बंद हो गया था समेर सिनेमा

‘समेर’ सिनेमा 1944 में बनकर तैयार हुआ था और 1960 में यह बंद हो गया था। 1987 में एक सिनेमा में आग लग गई थी, जो व्यापक रूप से इस्लामवादियों का काम माना जाता था। माना जाता है कि इस्लामवादी सिनेमा के चलन को अच्छा नहीं मानते। गाजा पट्टी एक फिलिस्तीनी क्षेत्र है। यह मिस्त्र और इजरायल के मध्य भूमध्यसागरीय तट पर स्थित है। फिलिस्तीन अरबी और बहुसंख्य मुस्लिम बहुल इलाका है। इस पर हमास द्वारा शासन किया जाता है जो इजरायल विरोधी आतंकवादी समूह है।

ये भी पढ़ें- भूख ने बनाया शतरंज का नेशनल चैंपियन

2014 में इजराइल और गाजा के बीच हुई लड़ाई में 2000 से अधिक फिलीस्तीनियों की मौत हो गई थी। हालांकि गाजा अब धीरे-धीरे लड़ाई से उबर रहा है।