जलवायु परिर्वतन का एशिया में पड़ेगा भयानक प्रभाव : अध्ययन 

जलवायु परिर्वतन का एशिया में पड़ेगा भयानक प्रभाव : अध्ययन जलवायु परिर्वतन का एशिया में पड़ेगा भयानक प्रभाव

नई दिल्ली (भाषा)। जलवायु परिवर्तन से प्रशांत महासागर क्षेत्र और एशिया के देशों में भयानक प्रभाव पड़ सकता है। यह चेतावनी एक नई रिपोर्ट में दी गयी है और कहा गया है कि 2030 के दशक में दक्षिण भारत में धान के पैदावार में पांच प्रतिशत तक की गिरावट देखी जा सकती है।

एशियाई विकास बैंक (एडीबी) और पोटस्डम इंस्टीट्यूट फॉर क्लाइमेट इंपैक्ट रिसर्च (पीआईके) ने रिपोर्ट में दावा किया है कि असंतुलित जलवायु परिवर्तन से वर्तमान में होने वाले विकास के विपरीत इन देशों का विकास भविष्य में गंभीर रुप से प्रभावित हो सकता है और जीवन की गुणवत्ता में कमी आएगी।

ये भी पढ़ें : जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों से निकलने के लिए जल संरक्षण करें : एफएओ

रिपोर्ट के मुताबिक, एशिया विशेषकर चीन, भारत, बंग्लादेश और इंडोनेशिया में भारी संख्या में लोग रहते हैं जिससे जनसंख्या विस्फोट की आशंका है। इसमें कहा गया है कि इस बीच बुरी से बुरी परिस्थितयों में बंग्लादेश, भारत और पाकिस्तान के निचले तटीय इलाके में 13 करोड़ लोगों के सामने इस सदी के अंत तक विस्थापित होने का खतरा है।

ये भी पढ़ें : जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए भारत को खर्च करने होंगे ढाई खरब डालर

इसमें बताया गया है, ''भारत के उत्तरी राज्यों में चावल की पैदावार बढ़ सकती है, जबकि दक्षिणी राज्यों में 2030 के दशक में इसमें पांच प्रतिशत, 2050 के दशक में 14.5 प्रतिशत और 2080 के दशक में 17 प्रतिशत की गिरावट आ सकती है।''

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिएयहांक्लिक करें।

ये भी देखें

Share it
Top