दुनिया

देर से जागा रेलवे प्रशासन: रूरा ट्रेन हादसे में स्टेशन मास्टर सहित चार सस्पेंड 

कानपुर (भाषा)। रूरा में हुए सियालदाह अजमेर एक्सप्रेस 12987 ट्रेन हादसे के एक हफ्ते बाद प्रारंभिक जांच में दोषी पाए गए स्टेशन मास्टर समेत चार लोग सस्पेंड कर दिए गए हैं। 28 दिसंबर को यह हादसा हुआ था,जिसमें करीब 62 लोग घायल हुए थे।

एनसीआर के सीपीआरओ विजय कुमार ने एक बयान में बताया कि विभागीय जांच (डिपार्टमेंटल इन्कवायरी) में पहली नजर में लापरवाही बरतने वाले चार रेल कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया गया है। इसमें रूरा स्टेशन के स्टेशन इंचार्ज ऑन डयूटी महेश कुमार वैश्य, ट्रैफिक इंस्पेक्टर धर्म सिंह मीना, सीनियर सेक्शन इंजीनियर एस के वर्मा और आर पी सिंह शामिल हैं।

मामले की प्रारंभिक जांच के बाद एनसीआर के डीआरएम संजय कुमार के आदेश के बाद इन रेलवे कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की गयी है। प्रारंभिक जांच में यह अधिकारी लापरवाही के दोषी पाए गए थे।
विजय कुमार, सीपीआरओ, एनसीआर

उन्होंने बताया कि रूरा हादसे की जांच रेल सुरक्षा आयुक्त (कमिश्नर आफ रेलवे सेफ्टी) उत्तर परिमंडल (नॉर्दन रीजन) शैलेश कुमार पाठक कर रहे हैं और वह 30 और 31 दिसंबर को कानपुर और घटनास्थल आकर जांच व रेलवे कर्मचारियों के बयान लेकर जा चुके हैं। वैसे सीआरएस अभी एक बार रूरा मामले की जांच के लिए फिर कानपुर आ सकते हैं।

सीआरएस पाठक अपनी जांच रिपोर्ट 30 दिन में नागरिक उड्डयन मंत्रालय और रेलवे मंत्रालय को सौपेंगे। यह कार्रवाई उत्तर मध्य रेलवे (एनसीआर) के अधिकारियों द्वारा पहली नजर में लापरवाही के दोषी रेलवे कर्मचारियों के खिलाफ की गयी है।