जेटली ने बासित को सुनाई खरी-खरी, पाक को दिए उसकी बर्बरता के सबूत

जेटली ने बासित को सुनाई  खरी-खरी, पाक को दिए उसकी बर्बरता के सबूतकेंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली।

नई दिल्ली (आईएएनएस)। रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को भारतीय जवानों की हत्या के बाद उनके शवों के साथ बर्बरता करने से पाकिस्तान के इनकार को खारिज करते हुए कहा कि परिस्थितियां और पूरा घटनाक्रम स्पष्ट संकेत करता है कि इन सबमें पाकिस्तानी सेना की सक्रिय भागादारी थी। जेटली ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, "मेरे खयाल से उनका इनकार विश्वसनीय नहीं है, क्योंकि परिस्थितियां और पूरा घटनाक्रम स्पष्ट संकेत करता है पाकिस्तानी सेना की सक्रिय भागीदारी की बदौलत हमारे दो जवानों की पहले हत्या की गई और फिर उनके शवों को क्षत-विक्षत किया गया।

जेटली ने कहा, वास्तविकता यह है कि घुसपैठ करने वालों को पीछे से गोलीबारी कर मदद प्रदान की गई, जिन्होंने इस बर्बर कृत्य को अंजाम दिया उन्हें इतने भारी-भरकम सुरक्षा वाली, जहां दो चौकियों के बीच सिर्फ कुछ मीटर की दूरी होती है, सीमा से बच निकलने में मदद की गई। यह बिना सुरक्षा मुहैया कराए या भागीदारी के या सेना को सक्रिय रूप से शामल किए बगैर हो ही नहीं सकता था।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

भारतीय सेना के दो जवानों की जम्मू एवं कश्मीर में नियंत्रण रेखा के नजदीक पाकिस्तानी सेना द्वारा बर्बर तरीके से हत्या किए जाने के दो दिन बाद बुधवार को भारत के विदेश सचिव एस. जयशंकर ने जवानों के साथ बर्बरता में पाकिस्तानी सेना का हाथ होने के सबूत पाकिस्तानी उच्चायुक्त अब्दुल बासित को सौंपे। पाकिस्तानी उच्चायुक्त से यह भी कहा गया कि इस घटना के लिए जिम्मेदार सैनिकों और कमांडरों के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी। जब जेटली से पूछा गया कि पाकिस्तान की इस हरकत का जवाब देने के लिए सरकार की क्या योजना है, तो उन्होंने कहा, "हमारी सेना पर अपना विश्वास बनाए रखें।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top