दुनिया

छठ पूजा के लिए घाटों पर उमड़े लाखों श्रद्धालु

पटना(भाषा)। छठ के अवसर पर रविवार को समूचे बिहार में गंगा एवं अन्य नदियों तथा जलाशयों के किनारे बने घाटों पर लाखों श्रद्धालु सूर्य की उपासना के लिए जुटे। पटना में व्रत रखने वाले पुरुष एवं महिलाएं गंगा के घाटों पर जमा हुए और कमर तक पानी में खड़े होकर डूबते सूर्य की आराधना की। बिहार सरकार ने शुक्रवार को शुरु हुए चार दिवसीय इस पर्व के तीसरे दिन रविवार को छठ पूजा की सुगम व्यवस्था के लिए कड़े सुरक्षा इंतजाम किए हैं।

सीएम नीतीश कुमार ने लिया जायजा

बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमार छठ पूजा करते हुए।

अपने आराध्य देव को ‘ठेकुआ', फलों, गन्ना और नारियल का ‘अर्घ्य' देने के दौरान ‘छठ व्रतियों' के परिवार के सदस्य एवं रिश्तेदार उनकी सहायता करते दिखे। एक आधिकारिक बयान के मुताबिक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंत्रियों एवं वरिष्ठ अधिकारियों के साथ नासरीगंज से गायघाट तक मोटरबोट के जरिए घाटों का जायजा लिया और राज्य की खुशहाली के लिए ‘व्रतियों' से आशीर्वाद लिया। मुख्यमंत्री के आधिकारिक आवास 1, अणे मार्ग पर छठ पूजा का आयोजन किया गया है जहां नीतीश कुमार की भाभी व्रत रख रही हैं. बहरहाल यह पूजा व्यक्तिगत ही थी.

सोमवार सुबह सूर्य को देंगे अर्घ्य

दूसरी ओर हर साल ‘छठ' पूजा के आयोजन को लेकर मीडिया के आकर्षण का केंद्र रहने वाले राजद नेता लालू प्रसाद अपने 10 सर्कुलर मार्ग स्थित आवास पर इस साल पूजा नहीं हो रही है। पटना में गंगा के तट पर शाम के दौरान ‘अर्घ्य' देने के लिए श्रद्धालुओं का भारी हुजूम नजर आया। कुछ इसी तरह के दृश्य अन्य जिलों में भी देखे गए। शाम का ‘अर्घ्य' पूरा होने के बाद श्रद्धालु उगते सूर्य को ‘अर्घ्य' देने के लिए सोमवार को सुबह फिर घाटों पर आएंगे।

20 घाट असुरक्षित घोषित

राजधानी के 101 घाटों में से 20 को ‘असुरक्षित' घोषित किया गया है और वहां करीब से निगरानी के लिए कई वॉच टावर और सीसीटीवी लगाए गए हैं। एनडीआरएफ के आधिकारिक सूत्र ने बताया कि घाटों पर जरुरत पड़ने पर नौका और बचाव एवं राहत अभियानों के साथ राष्ट्रीय आपदा मोचन बल के दलों को तैनात किया गया है।