विजय माल्या लंदन में गिरफ्तार, कुछ ही घंटों में मिलीं जमानत 

विजय माल्या लंदन में गिरफ्तार, कुछ ही घंटों में मिलीं जमानत बैंकों का कर्ज न चुकाने के आरोप में भारत में वांछित भगोड़े कारोबारी विजय माल्या को मंगलवार को लंदन में गिरफ्तार किया गया। हालांकि कुछ ही घंटों बाद एक स्थानीय अदालत ने उन्हें जमानत दे दी।

लंदन (भाषा)। भारत में भगोड़ा घोषित विजय माल्या (61 वर्ष) को धोखाधड़ी के आरोपों में नई दिल्ली के प्रत्यर्पण आग्रह पर आज स्कॉटलैंड यार्ड ने लंदन में गिरफ्तार कर लिया, लेकिन चंद घंटे बाद उसे जमानत मिल गई।

शराब कारोबारी माल्या भारत में ऋण डिफॉल्ट मामले में वांछित है, उसे आज सुबह उस समय गिरफ्तार कर लिया गया जब वह मध्य लंदन पुलिस थाने में पेश हुआ। कभी अपने को ‘‘द किंग ऑफ गुड टाइम्स'' कहने वाले माल्या को गिरफ्तारी के चंद घंटे बाद जमानत पर रिहा कर दिया गया।

स्कॉटलैंड यार्ड ने कहा, ‘‘मेट्रोपॉलिटन पुलिस की प्रत्यर्पण इकाई ने आज सुबह प्रत्यर्पण वारंट पर एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया। विजय माल्या को धोखाधड़ी के आरोप के सिलसिले में भारतीय अधिकारियों की ओर से गिरफ्तार किया गया।''

दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने कहा कि माल्या को तब गिरफ्तार किया गया जब वह मध्य लंदन पुलिस थाने में पेश हुआ। वह लंदन में वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत पेश हुआ और कुछ घंटे बाद जमानत मिलने के बाद अपनी कानूनी टीम के साथ बाहर आते देखा गया।

माल्या की टीम के एक सदस्य ने जमानत शर्तों का कोई ब्योरा दिए बिना अदालत में कहा, ‘‘यह एक स्वैच्छिक कार्रवाई थी, वह कुछ मिनट में बाहर आ जाएंगे।'' शराब कारोबारी ने जमानत मिलने के बाद कहा, ‘‘सामान्यत: यह भारतीय मीडिया द्वारा फैलाई जा रही सनसनी है, अदालत में प्रत्यर्पण सुनवाई आज अपेक्षित तौर पर शुरू हुई।''

माल्या की निष्क्रिय हो चुकी किंगफिशर एअरलाइन्स पर विभिन्न बैंकों की नौ हजार करोड़ रुपए से अधिक की देनदारी है, वह दो मार्च 2016 को भारत से भागकर ब्रिटेन पहुंच गया था। जनवरी में एक भारतीय अदालत ने बैंकों के एक समूह को ऋण वसूली की प्रक्रिया शुरु करने का आदेश दिया था।

वरिष्ठ भारतीय अधिकारियों ने उसकी गिरफ्तारी को मामले में पहली सफलता बताया जिसमें अब ब्रिटेन में यह तय करने के लिए एक कानूनी प्रक्रिया होगी कि क्या माल्या को भारतीय अदालतों में आरोपों का सामना करने के लिए प्रत्यर्पित किया जा सकता है।

माल्या की गिरफ्तारी वित्त मंत्री अरण जेटली द्वारा दिए गए उस संकेत के हफ्तों बाद हुई है जिसमें उन्होंने कहा था कि उनकी ब्रिटेन यात्रा के दौरान बातचीत में माल्या के प्रत्यर्पण का मुद्दा शामिल होगा। भारत ने ब्रिटेन के साथ प्रत्यर्पण संधि के अनुरुप आठ फरवरी को एक ‘नोट वर्बेल' के जरिए माल्या के प्रत्यर्पण के लिए औपचारिक आग्रह किया था।

नई दिल्ली ने आग्रह सौंपते हुए कहा था कि माल्या के खिलाफ उसके पास एक ‘‘जायज'' मामला है, इसने उल्लेख किया था कि यदि प्रत्यर्पण आग्रह का सम्मान किया जाता है तो यह ‘‘हमारी चिंताओं के प्रति'' ब्रिटेन की ‘‘संवेदनशीलता'' को प्रदर्शित करेगा।

पिछले महीने ब्रिटिश सरकार ने माल्या के प्रत्यर्पण की प्रक्रिया के संबंध में भारत के आग्रह को प्रमाणित कर इसे आगे की कार्रवाई के लिए एक जिला न्यायाधीश के पास भेज दिया था। ब्रिटेन से प्रत्यर्पण की प्रक्रिया में न्यायाधीश द्वारा गिरफ्तारी वारंट जारी करने सहित कई कदम शामिल होते हैं।

Share it
Top