दुनिया

लखनऊः 1 दिसंबर को ट्रायल के लिए तैयार मेट्रो

लखनऊ (आईएएनएस/आईपीएन)। लखनऊ मेट्रो पहली दिसंबर को अपनी पहली मेट्रो ट्रेन का ट्रायल रन शुरू करने के लिए पूर्ण रूप से तैयार है। अगले 10 दिनों के अंदर ट्रेन के कोच चेन्नई से लखनऊ पहुंचकर ट्रांसपोर्ट नगर स्थित डिपो में असेम्बल हो जाएंगे।

प्रदेश सरकार के मंत्री यासिर शाह के साथ मुख्यमंत्री के मुख्य सलाहकार अलोक रंजन, मुख्य सचिव राहुल भटनागर और प्रमुख सचिव आवास सदाकांत ने शुक्रवार को चेन्नई के पास सिटी स्थित मेसर्स अल्सटोम ट्रांसपोर्ट इंडिया लिमिटेड की निर्माण इकाई में इस ट्रेन सेट का निरीक्षण किया था। मेट्रो एमडी कुमार केशव ने बताया, ''इतने कम समय में रोलिंग स्टॉक (मेट्रो ट्रेन) के निर्माण लक्ष्य को प्राप्त करना आसान नहीं था। फिर भी हम सबने तय समय से पहले ट्रेन कोच को तैयार करवाया।''

उन्होंने बताया कि रोलिंग स्टॉक के निदेशक महेंद्र कुमार और अन्य शीर्ष अधिकारी पिछले छह महीनों में कई बार चेन्नई के पास श्री सिटी स्थित मेसर्स अल्सटोम प्लांट का दौरा कर चुके थे और डिजायन व फाइनल वर्क पूरा होने के बाद ही राहत की सांस लिया।

मेट्रो एमडी स्वयं कोचों के निर्माण का निरीक्षण और समीक्षा करने के लिए लगभग हर बीस दिनों के अंतराल पर चेन्नई की यात्रा करते थे। उन्होंने पहली मेट्रो ट्रेन की जल्द आपूर्ति के लिए ठेकेदार पर दबाव बनाकर रखा था। लखनऊ मेट्रो का रोलिंग स्टॉक (मेट्रो ट्रेन) ठेका आवंटित होने के 65 सप्ताह के भीतर ही भेजा जा रहा है, जो ट्रेन आपूर्ति के लिए दुनिया भर में ज्ञात सबसे कम अवधि में से एक है।

मेट्रो ट्रेनों की मुख्य डिजाइन सुरक्षा सुविधाओं में इसका डिजाइन, टकराव के दौरान यात्री सुरक्षा, प्रणाली में पर्याप्त अतिरेक, अग्निरोधी सामग्री का उपयोग, आग के धुएं का पता लगाने वाले यंत्र तथा आपात स्थिति में सुरक्षित यात्री निकासी इत्यादि सुविधाओं से लैस है। यात्री सुरक्षा सुविधाओं में सीधे चालक से बात करने के लिए टाकबैक सुविधा सहित आपातकालीन संचार सुविधाएं शामिल हैं। इसके अलावा सभी गाड़ियों के अंदर सीसीटीवी फीड ट्रेन चालक तथा केंद्रीकृत सुरक्षा नियंत्रण कक्ष के रूप में एक साथ भी प्रदर्शित करने की सुविधा है।

लखनऊ मेट्रो ने 2 सितंबर 2015 को 80 कारों वाली 20 ट्रेनों तथा लखनऊ मेट्रो फेज-1ए, ट्रेन नियंत्रण और सिगनल प्रणाली के परीक्षण, आपूर्ति और कमीशन का पूरा प्रोजेक्ट एक फ्रेंच कंपनी संघ अल्सटोम ट्रांसपोर्ट इंडिया लिमिटेड को 1069 करोड़ की लागत पर अनुबंधित किया था। ठेकेदार कंपनी ने अपने तय समय से पहले दो सप्ताह पहले ही पहला ट्रेन सेट तैयार कर लिया।