नासा ने गुरुपूर्णिमा पर पहली बार जारी की चांद की तस्वीर

नासा ने गुरुपूर्णिमा पर पहली बार जारी की चांद की तस्वीरनासा ने जारी की तस्वीर

नई दिल्ली। रविवार को देशभर में गुरुपूर्णिमा का त्योहार मनाया जा रहा है। इस बार इसे अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने भी याद किया है। शनिवार को नासा ने पहली बार गुरु पूर्णिमा पर अपने ट्विटर हैंडल से चांद की तस्वीर जारी की। उसने गुरुपूर्णिमा के दिन वाले चांद को दुनिया में किन और नामों से जाना जाता है, उन्हें भी बताया है।

अंतरराष्ट्रीय स्पेस एजेंसी नासा ने भी इस दिन का जिक्र करते हुए एक तस्वीर जारी की है। नासा ने अपने ट्विटर हैंडल से एक पोस्‍ट डालते हुए इसका जिक्र किया है और कहा है कि यह दिन फूल मून के रूप में मनाया जाने वाला है। नासा ने इस दिन के अन्‍य नाम भी सुझाए हैं, जैसे- राइप कॉर्न मून, हे मून, थंडर मून आदि। नासा ने एक तस्वीर जारी की है और वो तस्वीर काफी शेयर हो रही है।

लोगों ने कहा- भारत के लिए सम्मान की बात

लोगों का कहना है कि ये देशवासियों के लिए सम्मान की बात है, आखिरकार हमारी पूर्णिमा को नासा ने भी गुरु मान लिया है। नासा के ट्वीट को बड़ी तादाद में लोगों ने री-ट्वीट और लाइक भी किया।

क्या है आज का महत्व

आषाढ़ मास की इस गुरु पूर्णिमा का काफी महत्व है। इस दिन महाभारत के रचयिता कृष्ण द्वैपायन व्यास का जन्म हुआ था। उन्होंने चारों वेदों को लिपिबद्ध किया था। इसलिए उन्हें वेद व्यास भी कहा जाता है। उनके सम्मान में गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा भी कहा जाता है। आज के दिन लाखों श्रद्धालु गंगा स्नान करते हैं। इस दिन को कई तरह से मनाया जाता है। आश्रम व विद्यापीठ में जो छात्र नि:शुल्क शिक्षा ग्रहण करते हैं वे अपने गुरु को धन्यवाद देकर नमन करते हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top