यूरोप में पोल्ट्री फार्म पर मंडराया खतरा, अंडों में पाया गया कीटनाशक, मारी जा रहीं मुर्गियां

यूरोप में पोल्ट्री फार्म पर मंडराया खतरा, अंडों में पाया गया कीटनाशक, मारी जा रहीं  मुर्गियांफिप्रोनिल रसायन मक्खियां भगाने के लिए किया जाता है इस्तेमाल

ब्रुसेल्स। यूरोपीय बाजारों में अंडों में कीटनाशक रसायन फिप्रोनिल के अंश पाये जाने के बाद हड़कंप मचा हुआ है और इस कारण नीदरलैंड में प्रभावित मुर्गियों को मारने का काम शुरू हो गया है और लाखों मुर्गियों को खत्म किया जा सकता है।

पांच देशों के सुपर बाजारों से हटाए गए अंडे

नीदरलैंड के मुर्गी पालकों के संगठन एलटीओ ने कहा है कि बेल्जियम को इस मामले में सफाई देनी चाहिए। इस बीच जर्मनी, नीदलैंड, बेल्जियम, स्वीडन और स्विट्जरलैंड के सुपर बाजारों से लाखों की संख्या में बिक्री के अंडे उनमें फिप्रोनिल रसायन के खतरे के कारण हटा लिए गए हैं।

ये भी पढ़ें:- गाय की लंबी उम्र के लिए उनके पेट में छेद कर रहे अमेरिका के किसान

मक्खियां भगाने के लिए इस्तेमाल होता है खतरनाक फिप्रोनिल रसायन

फिप्रोनिल रसायन मक्खियां भगाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है पर इसका प्रयोग ऐसे पशु-पक्षियों पर वर्जित है जो मानव उपभोग के लिए होते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार इस रसायन से मनुष्यों के गुर्दे, लिवर और थायरायड ग्लैंड पर खतरनाक प्रभाव पड़ सकता है।

ये भी पढ़ें:- बैंककर्मियों के लिए खुशखबरी: हफ्ते में दो दिन बंद रहेंगे बैंक, चल रहा विचार

लाखों की संख्या में मारी जा रही मुर्गियां

नीदरलैंड के एक कृषि संगठन एलटीओ ने बताया कि वहां 150 कंपनियों में अब तक तीन लाख मुर्गियों को मारा जा चुका है और अभी कई लाख मुर्गियों को अभी और मारने की जरूरत पड़ सकती है। एलटीओ के एक प्रवक्ता ने कहा कि इन्हें संक्रमण के कारण मारा गया।

ये भी पढ़ें:- यूपी में कर्ज़माफी की राह देख रहे किसानों के लिए खुशखबरी, 17 अगस्त से कैंप शुरू

20 जुलाई पता चलीथी अंड़ों में रसायन की बात

इस बीच बेल्जियम के कृषि मंत्री डेनिस डुकार्मे ने कहा कि उन्होंने वहां की खाद्य सुरक्षा एजेंसी को रिपोर्ट पेश करने कहा है कि क्यों वे अंडों में फिप्रोनिल रसायन होने की बात जून से ही मालूम होने पर भी 20 जुलाई तक पड़ोसी देशों को नहीं बताया गया। जर्मनी और नीदरलैंड के दबाव का सामना कर रहे डुकार्मे ने पूरी तरह से पारदर्शिता का वादा किया है। उन्होंने कहा कि वह अपने समकक्षों से टेलीफोन के जरिये आने वाले दिनों में बात करेंगे।

ये भी पढ़ें:- यूपी के किसान ने कर्जमाफी का लाभ लेने से किया इनकार, पीएम और सीएम से की अनोखी अपील, जिसे सुन आप भी कहेंगे वाह

नीदरलैंड ने बेल्जियम से मांगा स्पष्टीकरण

उल्लेखनीय है कि अंडों में कीटनाशक पाये जाने की जानकारी से अवगत नहीं कराये जाने को लेकर जर्मनी और नीदरलैंड ने बेल्जियम से स्पष्टीकरण की मांग की है। यूरोपीय आयोग की प्रवक्ता अन्ना-केइसा इत्कोनेन ने कहा कि चूंकि इस मामले में एक आपराधिक जांच चल रही है इस लिए वह बेल्जियम की ओर से सूचना दिए जाने में देरी पर कोई टिप्पणी नहीं कर सकती हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top