ओवरटाइम करने के बाद रिपोर्टर की मौत  

ओवरटाइम करने के बाद रिपोर्टर की मौत   प्रतीकात्मक फोटो 

तोक्यो (एएफपी)। जापान में एक माह के दौरान 159 घंटे का ओवरटाइम करने वाली रिपोर्टर की हृदयगति रकने से मौत हो गयी। जिसके बाद जापान के सार्वजनिक प्रसारक ने अपने कामकाज के तरीकों को सुधारने की कसम खाई है। एनएचके की 31 वर्षीय रिपोर्टर मिवा सादो जुलाई 2013 में कथित तौर पर मोबाइल पकडे हुये मृत अवस्था में पायी गयी थी। वह तोक्यो में राजनीतिक समाचारों की रिपोर्टिंग करती थी।

ये भी पढ़ें-देसी खाट के विदेशी ठाठ : विदेशों में 20 हज़ार तक में बिक रही एक भारतीय चारपाई

रिपोर्टर की मौत के एक साल बाद जापान के अधिकारियों ने बताया कि उसकी मौत अत्यधिक काम करने की वजह से हुयी है। अपनी मौत से पहले महीने में उसने केवल दो दिनों की छुट्टी ली थी।

एनएचके ने सादो के माता-पिता द्वारा ऐसी घटना की पुनरावृत्ति रोकने के लिये कार्वाई का दबाव डाले जाने के बाद घटना के चार साल बाद यह मामला सार्वजनिक किया। काम के घंटों के लिये बदनाम जापान में इस मामले के बाद लंबे समय तक काम करने की समस्या फिर से चर्चा में आ गयी।

ये भी पढ़ें-अंडे की सफेदी के प्रोटीन से बन सकती है बिजली

एनएचके के लिए एक शर्मनाक रहस्योद्घाटन भी है, जिसने जापान में लंबे समय तक काम करने की संस्कृति के खिलाफ अभियान चलाया है।

सादो ने जून 2013 में तोक्यो विधानसभा चुनावों और अगले महीने राष्ट्रीय संसद के लिए उच्चस्तरीय मतदान की रिपोर्टिंग की थी। ऊपरी सदन के चुनाव के तीन दिन बाद उसकी मौत हो गयी।

उसकी मां ने दैनिक समाचार असाही को बताया, आखिरी क्षणों में वह मुझे फोन करना चाहती थी और यह सोचकर मेरा दिल टूट गया।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top