दुनिया

सपा सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट जनेश्वर पार्क के निर्माण में हुए खर्च की जांच कराएगी योगी सरकार

लखनऊ। नई सरकार आने के बाद अब सपा के समय अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट जनेश्वर मिश्र पार्क में हुए अनाश शनाप खर्च पर जांच करवाई जाएगी। पार्क के रखरखाव और साफ-सफाई के नाम पर करोड़ों रुपये के टेंडर हुए। इस मामले में सीएम योगी आदित्यनाथ के सामने प्रकरण को रख दिया गया। जिसके बाद में लखनऊ विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष सत्येंद्र कुमार सिंह को मुख्यमंत्री और योगी आदित्यनाथ और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने तलब किया। जनेश्वर मिश्र पार्क पर हुए अनाप शनाप खर्च की पूरी रिपोर्ट मांगी गई। बहुत जल्द ही इस मामले में प्राधिकरण के आला अफसरों पर गाज गिरेगी। जिसकी तैयारी सरकार के स्तर पर शुरू कर दी गई है। जिसके बाद में अब लखनऊ विकास प्राधिकरण में हंगामा मचा हुआ है।

378 एकड़ में बनाए गए जनेश्वर मिश्र पार्क के केवल निर्माण पर ही 300 करोड़ रुपये का खर्च हुआ था। ये निर्माण लगभग डेढ़ साल पहले पूरा हो गया था। मगर इसके बाद में मेंटीनेंस, प्रचार, सफाई, साइकिल, गंडोला बोट, मोटर बोट और यहां तक की सांपों को काबू करने तक के लिए भारीभरकम फाइलें बनाई जाती रहीं। मगर सरकार बनने के बाद ये सारे मामले खुलने लगे।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

जनेश्वर मिश्र पार्क में खेलते लोग।

करीब 50 करोड़ रुपये का अपव्यय जनेश्वर मिश्र पार्क के मामले में सामने आ रहा है। जिसमें अभियंताओं और अफसरों के बीच मिलीभगत कर के जम कर गड़बड़ियां की गईं। ये मामला सपा सरकार जाने के बाद उजागर हो गया है।जिससे अब हड़कंप की स्थित बनी हुई है। एलडीए के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि प्रकरण में एलडीए वीसी सत्येंद्र कुमार सिंह खुद को बचाने के लिए खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सामने प्रस्तुत हुए और अपनी सफाई रखी। इसके साथ ही डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने भी उनसे जनेश्वर मिश्र पार्क में खर्च के नाम पर हुई गड़बड़ियों की जानकारी ली। जिनका जवाब देने की स्थिति में सत्येंद्र कुमार सिंह नहीं थे।

पिछली सरकार के खास रहे एलडीए वीसी

एलडीए वीसीस सत्येंद्र कुमार सिंह सपा सरकार के खास अफसरों में रहे। जब से वे आए हैं, तभी से वीसी पर अनेक तरह के आरोप लगते रहे हैं। अपने विशालखंड गोमती नगर स्थित आवास में बैंक खोलने कोशिश में लैंडयूज बदलने की तैयारी की थी। इसके अलावा घर में टॉवर लगाने को लेकर तो तत्कालीन सीएम अखिलेश यादव ने भी उनको लताड़ लगाई थी। जिसके बाद में अब जनेश्वर मिश्र पार्क में अनेक गड़बड़ियां सामने आ रही हैं।

वीसी ने साधी चुप्पी

इस पूरे मसले पर जब एलडीए वीसी सत्येंद्र कुमार सिंह से बात करने की कोशिश की गई तो उन्होंने चुप्पी साध ली। उन्होंने अपने दफ्तर में मुलाकात नहीं की और मोबइल पर कॉल करने पर कॉल पिक नहीं की। वीसी के अलावा भी कोई अन्य अफसर इस मसले पर बोलने के लिए राजी नहीं हुआ।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।