दुनिया

सीबीआई ने तृणमूल सांसद सुदीप बंदोपाध्याय को किया गिरफ्तार, ममता ने दी मोदी को चुनौती

कोलकाता (भाषा)।केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने कथित रोज वैली चिटफंड घोटाले की जांच के सिलसिले में लोकसभा में तृणमूल कांग्रेस के संसदीय दल के नेता सुदीप बंदोपाध्याय को गिरफ्तार किया। एक हफ्ते के अंदर यह पार्टी के दूसरे नेता की गिरफ्तारी है।

बंदोपाध्याय करीब ग्यारह बजे यहां सीबीआई कार्यालय पहुंचे। उनसे चार घंटे से अधिक देर तक सघन पूछताछ की गयी। उसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। उन्हें पहले सीबीआई ने तीन बार समन जारी किया था।

कथित रोज वैली घोटाले के मामले में बंदोपाध्याय की गिरफ्तारी से पहले शुक्रवार को तृणमूल कांग्रेस के ही अन्य सांसद तापस पाल को गिरफ्तार किया गया था। अभिनेता से नेता बने पाल अब भुवनेश्वर में सीबीआई की हिरासत में हैं।

मुझे गिरफ्तार करें मोदी: ममता

सांसद सुदीप बंदोपाध्याय की गिरफ्तारी से नाराज पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सीबीआई, ईडी और आयकर विभाग का इस्तेमाल उन लोगों के खिलाफ करने का आरोप लगाया जिन्होंने नोटबंदी के खिलाफ आवाज उठाई है। बनर्जी ने मोदी को उन्हें और तृणमूल कांग्रेस के सभी सांसदों को गिरफ्तार करने की चुनौती दी।

ममता ने कहा, ‘मैं यह नहीं सोच सकती कि सुदीप बंदोपाध्याय जो लोकसभा में हमारी पार्टी के नेता हैं उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा। मेरे पास यह भी सूचना है कि मोदी तृणमूल कांग्रेस के कई अन्य नेताओं यथा अभिषेक बनर्जी, शोभन चटर्जी (शहर के मेयर) और फरहाद हाकिम (मंत्री) की गिरफ्तारी चाहते हैं।' उन्होंने कहा, ‘मैं स्तब्ध हूं, लेकिन डरी हुई नहीं हूं। उन्होंने हम सबको गिरफ्तार करने दें। मैं खुलेआम उन्हें चुनौती देती हूं कि मुझे गिरफ्तार करें। देखते हैं उनमें कितना दम है। वह दूसरों को चुप करा सकते हैं लेकिन मुझे नहीं। हम नोटबंदी के खिलाफ अपना प्रदर्शन जारी रखेंगे।’

सुदीप बंदोपाध्याय की गिरफ्तारी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए केंद्रीय कोयला एवं बिजली मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि अगर किसी ने कुछ गलत किया है तो वह पकड़ा जाएगा।

गोयल ने कहा, ‘अगर किसी ने कुछ गलत किया है तो वह पकडा जाएगा। अगर कोई निराधार आरोपों से अपनी गलतियों को ढंकने की कोशिश करता है---हमने जांच में कभी हस्तक्षेप नहीं किया है।'

भाजपा कार्यालय के बाहर पथराव

बंदोपाध्याय की गिरफ्तारी के शीघ्र बाद यहां तृणमूल कांग्रेस की छात्र इकाई के संदिग्ध कार्यकर्ताओं ने प्रदेश भाजपा मुख्यालय पर पथराव किया। हालांकि तृणमूल कांग्रेस छात्र परिषद (टीएमसीपी) ने इस घटना में अपना हाथ होने से इनकार किया है। पुलिस ने इलाके को घेर लिया और प्रदर्शनकारियों को वहां से भगाया।

कोलकाता पुलिस के एक अधिकारी ने कहा, ‘कुछ लोगों ने भाजपा कार्यालय पर पथराव किया। बाद में हमने बल प्रयोग किया एवं भीड़ को तितर-बितर किया।’ इस घटना पर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, ‘हाथों में तृणमूल कांग्रेस का झंडा लिए लोगों ने हमारे कार्यालय पर पत्थर फेंके क्योंकि उनका नेता घोटाले में गिरफ्तार किया गया है। क्या यह लोकतंत्र है? उन्हें आमलोगों को लूटने से पहले इसके बारे में सोचना चाहिए था।’