भारत की धीमी पड़ी आर्थिक वृद्धि दीर्घावधि संदर्भ में बुलबुले के समान : आईएमएफ 

भारत की धीमी पड़ी आर्थिक वृद्धि दीर्घावधि संदर्भ में  बुलबुले  के समान : आईएमएफ अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष।

वाशिंगटन (भाषा)। चालू वित्त वर्ष में भारत की आर्थिक वृद्धि 6.7 फीसद रहने का अनुमान वास्तव में उसकी अर्थव्यवस्था की दीर्घावधि संभावनाओं में एक अस्थायी व्यवधान की तरह है।अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के एक शीर्ष अधिकारी ने यह बात कही।

नोटबंदी और माल एवं सेवाकर (जीएसटी) की वजह से उत्पन्न हुई समस्याओं के चलते आईएमएफ ने अपनी नवीनतम विश्व आर्थिक रपट में भारत की आर्थिक वृद्धि 2017 में 6.7 फीसद रहने का अनुमान जताया है, यह उसके पूर्व के दो अनुमानों से 0.5 फीसद कम है।

इस रपट के जारी होने के बाद आईएमएफ में आर्थिक सलाहकार एवं शोध विभाग के निदेशक मॉरिस ऑब्स्टफेल्ड ने कहा, अर्थव्यवस्था में इस साल आया यह धीमापन वास्तव में उसकी दीर्घावधि सकारात्मक आर्थिक विकास की तस्वीर पर एक छोटे से अस्थायी दाग की तरह है।

एक प्रेसवार्ता के दौरान यहां विभिन्न प्रश्नों के जवाब देते समय ऑब्स्टफेल्ड भारतीय अर्थव्यवस्था के भविष्य को लेकर आश्वस्त नजर आए। उन्होंने कहा, आमतौर पर भारत की अर्थव्यवस्था बेहतर हालत में है, सरकार ने पूरी ऊर्जा के साथ ढांचागत सुधार लागू किए हैं जिनमें जीएसटी शामिल है, इसका दीर्घावधि में लाभ होगा।

आईएमएफ में आर्थिक सलाहकार मॉरिस ऑब्स्टफेल्ड ने कहा कि भारत को व्यापार की बेहतर शर्तों का लाभ मिला है. साथ ही मानसून के सामान्य होने का भी इसे लाभ मिला है क्योंकि इससे कृषि को फायदा मिला है.

हालांकि इस वर्ष के लिए दो प्रमुख व्यवधान दिखते हैं। उन्होंने कहा कि इसमें से एक है जीएसटी का लागू किया जाना वह भी विशेषकर जुलाई और अगस्त के महीने में, जिसके कुछ रुकावट पैदा करने वाले प्रभाव देखे गए हैं। आईएमएफ का मानना है कि यह प्रभाव बीत रहे हैं और आप देख सकते हैं कि अगले साल के लिए हमारा आर्थिक वृद्धि (भारत की) का अनुमान ऊंचा है, मेरे हिसाब से 7.4 फीसद। उन्होंने कहा कि दूसरी परेशानी है नोटबंदी। इससे अस्थायीतौर पर नकदी की कमी हुई जो अब खत्म हो गई है।

दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

अपनी रपट में आईएमएफ ने भारत की वृद्धि की गति धीमे होने की बात कही है जिसकी अहम वजह देश में नोटबंदी और साल के मध्य में जीएसटी लागू करने से छायी अनिश्चितता है, हालांकि जीएसटी से मध्यम अवधि में 8 फीसद की वृद्धि दर पाने में मदद मिलने की उम्मीद है।

Share it
Top