पेरिस समझौते में भारत, चीन कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन के लिए उत्तरदायी नहीं : व्हाइट हाउस

पेरिस समझौते में भारत, चीन कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन के लिए उत्तरदायी नहीं : व्हाइट हाउसव्हाइट हाउस

वाशिंगटन (भाषा)। व्हाइट हाउस ने पेरिस जलवायु समझौते से अलग होने के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के फैसले का बचाव करते हुए कहा कि इस समझौते में भारत और चीन जैसे देशों को ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के लिए उत्तरदायी नहीं बनाया गया है।

पर्यावरणीय रक्षा एजेंसी (ईपीए) के प्रशासक स्कॉट प्रुएट ने व्हाइट हाउस में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘जैसा कि आप जानते हैं कि चीन को वर्ष 2030 तक इस समझौते के कार्यान्वयन के लिए कदम नहीं उठाने हैं। भारत को जब तक 2500 अरब डॉलर की मदद नहीं मिल जाती तब तक उसका कोई दायित्व नहीं है।''

ट्रंप ने जलवायु परिवर्तन पर पेरिस समझौते से अलग होने की कल घोषणा की थी और उन्होंने कहा था कि अमेरिका इस पर फिर से बातचीत करेगा जिसके एक दिन बाद व्हाइट हाउस की यह प्रतिक्रिया आई है।

प्रुएट ने कहा, ‘‘जब रुस अपने लक्ष्य तय करता हैं तो वे अपनी बेसलाइन के तौर पर 1990 तय करते हैं जो उन्हें और अधिक कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन जारी रखने की अनुमति देता है। पेरिस समझौता चीन और भारत जैसे देशों की जवाबदेही तय नहीं करता।'' इस समझौते पर 150 से ज्यादा देशों ने अपनी सहमति जताई है।

प्रुएट ने कहा कि ट्रंप ने पेरिस समझौते से हटकर काफी साहसी निर्णय लिया है। उन्होंने कहा, ‘‘ट्रंप ने पर्यावरणीय समझौतों और अंतरराष्ट्रीय चर्चाओं के सम्मान से पहले अमेरिका के हितों को तरजीह दी है।'' प्रुएट ने कहा कि पेरिस समझौते से अलग होने का यह मतलब नहीं है कि इसे छोड़ दिया है। उन्होंने कहा, ‘‘राष्ट्रपति ने कल कहा था कि पेरिस समझौता इस देश के लिए खराब समझौता है। इसका यह मतलब नहीं है कि हम चर्चा जारी नहीं रख रहे हैं।''

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top