विश्व हिंदी दिवस : नागपुर में आयोजित हुआ था पहला विश्व हिन्दी सम्मेलन

विश्व हिंदी दिवस : नागपुर में आयोजित हुआ था पहला विश्व हिन्दी सम्मेलनविश्व हिंदी दिवस विशेष 

आज पूरे विश्व में विश्व हिंदी दिवस मनाया जा रहा है। विदेशों में भारत के दूतावास इस दिन को विशेष रूप से मनाते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि पहला विश्व हिंदी सम्मेलन कहां आयोजित किया गया था? आइये हम आपको बताते हैं।

पहला विश्व हिंदी सम्मेलन नागपुर में आयोजित किया गया था, इसका आयोजन वर्ष 1975 में 10-12 जनवरी को किया गया था। इस सम्मेलन का उद्घाटन भारत की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने किया था। वहीं, प्रथम विश्व हिंदी सम्मेलन का बोधवाक्य 'वसुधैव कुटुंबकम' था।

ये भी पढ़ें- दुष्यंत कुमार : देश के पहले हिंदी ग़ज़ल लेखक की वो 5 कविताएं जो सबको पढ़नी चाहिए

विश्व में हिन्दी का विकास करने और इसे प्रचारित-प्रसारित करने के उद्देश्य से विश्व हिन्दी सम्मेलनों की शुरुआत की गई थी। इसीलिए इस दिन को विश्व हिन्दी दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत के पूर्व प्रधानमन्त्री डॉ. मनमोहन सिंह ने 10 जनवरी, 2006 को प्रति वर्ष विश्व हिन्दी दिवस के रूप मनाये जाने की घोषणा की थी। उसके बाद से भारतीय विदेश मंत्रालय ने विदेश में 10 जनवरी 2006 को पहली बार विश्व हिन्दी दिवस मनाया था। इसका उद्देश्य विश्व में हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिये जागरूकता पैदा करना तथा हिन्दी को अन्तराष्ट्रीय भाषा के रूप में पेश करना है।

ये भी पढ़ें- एक कवि जिसे हिंदी साहित्य का ‘विलियम वर्ड्सवर्थ’ कहा जाता था

विश्व हिन्दी दिवस के अतिरिक्त 14 सितंबर को 'हिन्दी दिवस' के रूप में मनाया जाता है। 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने हिंदी को राजभाषा का दर्जा दिया था तभी से 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है।

ये भी पढ़ें- अमां अंग्रेज भी तो हिंदी ही बोलते हैं

ये भी पढ़ें- दिल्ली की एक लड़की जिसने जैकलीन व लीज़ा सहित कई विदेशियों को सिखाई है हिंदी

Share it
Share it
Share it
Top