दूसरे दिन भी दुकानों से निकलती रही आग की लपटें

दूसरे दिन भी दुकानों से निकलती रही आग की लपटेंGaon Connection

गॉंव कनेक्शन नेटवर्क

लखनऊ। अमीनाबाद के सबसे व्यस्ततम माना जाने वाला बाज़ार मुमताज़ मार्केट शनिवार की रात आग की भेंट चढ़ गया। भीषण आग ने देखते ही देखते कई दुकानों को अपनी चपेट में ले लिया। जब तक दमकल की गाडिय़ां मौके पर पहुंचती व्यापारियों की करोड़ों की सम्पत्ती जलकर खाक हो गई। आग लगने के लगभग 2 घंटे के बाद पहुची दमकल की गाडिय़ों ने आग पर काबू पाने की जी तोड़ कोशिश की लेकिन 14 घंटे बाद भी आग पर पूरी तरह से काबू नहीं पाया जा सका। 

मौजूद दुकानदार नफीस ने कहा, ‘’दमकल गाड़ी तो 30 से 40 आयीं लेकिन उनके पास न तो दुकानों के शटर काटने के हथियार थे न ही कोई ऐसी सामग्री जिससे आग पर काबू पाया जा सके। यहां तक की आक्सीजन मास्क तक का इंतज़ाम नहीं था। यही कारण था कि दुकानों में रखे लाखों रूपये के समानों को बचाया नहीं जा सका।’’

आग कैसे लगी है अभी जानकारी नहीं लग पा रही है। दुकानदार कमलेश ने बताया, ‘’उनका बेटा कुछ दिन पहले ही दुकान में त्योहार के लिए लाखों का सामान लाया था। लगभग 10 लाख का सामान जल कर खाक हो गया। शनिवार की रात लगी आग रविवार की शाम तक सुलग रही थी।’’ 

आदर्श व्यापार मण्डल के प्रदेश अध्यक्ष संजय गुप्ता ने कहा कि आग पर काबू पाने में दमकल विभाग पूरी तरह से नाकाम रहा। लगभग 50 करोड़ का माल जलकर खाक हो गया है। आदर्श व्यापार मण्डल ने मुख्यमंत्री से मांग की है कि जिन व्यापारियों के माल का नुकसान हुआ है उन्हें 50 लाख का मुआवज़ा दिया जाये।’’

आग लगने के पीछे कई विभागों की लापरवाही सामने आई है। जिसमें सबसे बड़ी कमी हाईडल विभाग की नज़र आयी जिनकी लापरवाही के चलते अमीनाबाद के पूरे क्षेत्र में बिजली के तारों का मकड़ जाल फैला हुआ है। एक दुकानदार ने अपना नाम न बताने पर बताया कि अमीनाबाद के लगभग सभी दुकानों में हाईडल विभाग की मिलीभगत के कारण गैर कानूनी कनेक्शन लगे हुए हैं जिसके कारण इस प्रकार के हादसे यहां कई बार हो चुके हैं लेकिन विभाग की अब तक आंख नहीं खुली। मुमताज़ मार्केट, प्रताप मार्केट, मोहन मार्केट, गड़बड़ झाला कहीं भी दमकल विभाग की सुविधा के लिए हाईड्रेंट नहीं लगा है।यदि कहीं लगा भी है तो दुकानों के कब्जे के कारण किसी को नहीं पता की हाईड्रेंट कहां है।

पूरे अमीनाबाद मार्केट में जिस प्रकार से सड़कों और फुटपाथों पर गैर कानूनी कब्जा है यह नगर निगम की लापरवाही को दर्शाता है। कई बार शहर के डीएम तथा नगर आयुक्त ने अमीनाबाद की सड़कों को कब्जेदारों के चंगुल से खाली कराने का एलान किया लेकिन यह हमेशा की भांति एलान ही बनकर रह गया। अमीनाबाद में आने वाले ग्राहक अधिकतर गाड़ियाँ अपने साथ ही लेकर चलते हैं जिसके कारण वहां जाम की स्थिति बनी रहती है। यह भी एक बड़ा कारण है कि दमकल की गाडिय़ों को अपना काम करने में अथवा हादसे के स्थान पर समय से पहुंचने में पसीना छूट जाता है। ऐसे में अक्सर दमकल गाड़ियों के जाम में फंस जाने के कारण देर हो जाती है।

संकरी गलियों में अटकती रही दमकल

मुमताज मार्केट में गिफ्ट और कपड़ों की 250 से अधिक दुकानें हैं। शनिवार रात अधिकतर व्यापारी दुकान बंद करके जा चुके थे। बेसमेंट में हर तरफ धुएं और आग की ऐसी लपटें उठ रही थीं कि दमकलकर्मी भी अंदर नहीं जा पा रहे थे। किसी तरह एक फायर ब्रिगेड मार्केट तक पहुंच पाई। फिर पाइप जोड़ कर बेसमेंट तक पानी पहुंचाया गया इस दौरान संकरी गालियों की बजह से दमकल की गाडिय़ों को मौके तक पहुंचने में कई बार अटकना पड़ा फिलहाल राहत कार्य जारी था।

Tags:    India 
Share it
Top