'बजरंगबली और अली' का विवाद पैदा करने वाली ताकतों से सावधान रहें: मायावती

गाँव कनेक्शनगाँव कनेक्शन   13 April 2019 11:00 AM GMT

Mayawati, loksabha election 2019

लखनऊ। बसपा सुप्रीमो मायावती ने शनिवार को चेताया कि चुनावी स्वार्थ के लिए 'बजरंगबली और अली' का विवाद पैदा करने वाली ताकतों से सावधान रहने की आवश्यकता है। मायावती ने बयान जारी कर देश और उत्तर प्रदेश वासियों को रामनवमी की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा, ''रामनवमी की देश व प्रदेशवासियों को बधाई व शुभकामनाएं तथा उनके जीवन में सुख व शान्ति की कुदरत से प्रार्थना।'' उन्होंने साथ ही कहा, ''ऐसे समय में जब लोग श्रीराम के आदर्शों का स्मरण कर रहे हैं, तब चुनावी स्वार्थ हेतु बजरंग बली व अली का विवाद व टकराव पैदा करने वाली सत्ताधारी ताकतों से सावधान रहना है।''

यह भी पढ़ें- ग्राउंड रिपोर्ट: जिस गांव से भीम आर्मी ने लड़ाई शुरू की, वहां के लोग चंद्रशेखर के बारे में क्या सोचते हैं?

बसपा सुप्रीमो ने जलियांवाला बाग के शहीदों को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा, ''जलियाँवाला बाग़ त्रासदी के आज 100 वर्ष पूरे हो गए। आजादी के लिए अपने प्राणों की आहूति देने वाले शहीदों को श्रद्धा-सुमन अर्पित एवं उनके परिवारों के प्रति गहरी संवेदना।'' उन्होंने कहा, ''काश, भारत सरकार इस अति-दुःखद घटना के लिए ब्रिटिश सरकार से माफी मंगवाकर देश को संतोष दिलाने में सफल हो पाती।''

यह भी पढ़ें- मायावती के 'मुस्लिम वाले बयान' पर चुनाव आयोग ने जिला प्रशासन से मांगी रिपोर्ट

मायावती ने अपने बयान में राफेल का मुद्दा भी उठाया। उन्होंने कहा कि राफेल रक्षा जांच के बाद चुनावी चन्दे के मामले में बीजेपी की पीएम श्री मोदी सरकार को आज फिर मा सुप्रीम कोर्ट में तगड़ा झटका लगा व उनकी शर्मनाक हार हुई। बीजेपी को बड़े-बड़े पूंजीपतियों/ धन्नासेठों से चुनावी बाण्ड के माध्यम से कितना अकूत धन मिलता है यह चुनाव आयोग को अब बताना होगा।

अब बीजेपी व इनके निरंकुश नेताओं को कम्बल ओढ़ कर घी पीते रहने के बजाए उन्हें चुनाव आयोग को यह बताना ही होगा कि कौन उद्योगपति/ धन्नासेठ चुनावी बाण्ड के रूप में उन्हें कितना अकूत धन दे रहा है तथा उनकी शान-शौकत, शाह खर्ची व चुनाव में धनबल के प्रयोग आदि का असली रहस्य क्या है?

इलेक्शन कनेक्शन की अन्य खबरें यहां पढ़ें-

देश में दूध उत्पादन 17 करोड़ लीटर, सलाना खपत 64 करोड़ लीटर, बाकी कहां से आता है ?

किसान व्यथा: मत पढ़िएगा, इसमें कुछ भी नया नहीं है

Election 2019 : लोकसभा चुनाव में गाँव और किसान फिलहाल किस मुकाम पर?

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top