राजस्थान चुनाव 2018: विधासभा चुनाव के मतदान संपन्न, 72.20 प्रतिशत हुआ मतदान

राजस्थान में विधानसभा की 200 में से 199 सीटों के लिए हुए मतदान में कुल 72.20 फीसदी वोट पड़े।

राजस्थान चुनाव 2018: विधासभा चुनाव के मतदान संपन्न, 72.20  प्रतिशत हुआ मतदान

जयपुर (भाषा)। राजस्थान राज्य में सात दिसंबर को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान हुआ। राज्य की 200 में से 199 सीटों के लिए मतदान सुबह आठ बजे शुरू हुआ और शाम पांच बजे तक 72.14 प्रतिशत मतदाता वोट डाल गए। मतदान के खत्म होते-होते यह प्रतिशत 72.20 तक रहा। कई मतदान केंद्रों से ईवीएम मशीनें काम न करने की खबरें भी आईं। विधानसभा सीटों के चुनाव का मतदान कड़ी सुरक्षा के बीच शांतिपूर्ण तरीके से कराया गया। मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने संवाददाताओं को बताया कि राज्य में स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न कराने के लिए सभी तैयारियां की गई थीं।

राजस्थान चुनावसाभार: इंटरनेट

पहले के एक घंटे में केवल छह प्रतिशत हुआ था मतदान

इस राज्य में जहां शुरूआत के पहले एक घंटे में लगभग छह प्रतिशत मतदान हुआ, वहीं एक बजे तक यहां मतदान 41 प्रतिशत से अधिक हो गया। क्षेत्रफल के हिसाब से राजस्थान देश का सबसे बड़ा राज्य है। यहां 200 में से 199 सीटों पर मतदान हुआ है। इस राज्य में चार करोड़ से अधिक मतदाताओं के लिए 51 हजार से अधिक मतदान केंद्र बनाए गए थे।

ये भी पढ़ें: विधानसभा चुनाव: मध्यप्रदेश और मिजोरम में मतदान जारी, सुरक्षा के कड़े इंतजाम

राजस्थान में पहली बार महिला मतदान केन्द्रों की हुई पहल

राजस्थान में पहली बार महिला मतदान केन्द्रों की पहल निर्वाचन विभाग द्वारा विधानसभा के मतदान के लिए की गई थी। महिला मतदान केन्द्रों पर तैनात सभी कर्मचारी और सुरक्षाकर्मी महिलाएं ही थीं। निर्वाचन विभाग के इस फैसले से महिलाओं ने संतोष व्यक्त किया और इसे एक अच्छी पहल बताई भी कहा। राज्य में 51,687 मतदान केन्द्रों में से 259 महिला मतदान केन्द्र थे। जयपुर जिले में 50 महिला मतदान केन्द्र बनाये गये थे।

राजस्थान चुनावसाभार: इंटरनेट

ये भी पढ़ें: क्या राजस्थान में प्रचार रणनीति में बीजेपी से पिछड़ रही है कांग्रेस

जयपुर में 50 महिला मतदान केन्द्र बने

जयपुर जिले में 50 महिला मतदान केन्द्र बनाए गए। इनमे से गांधी नगर स्थित राजकीय बालिका उच्च प्राथमिक विद्यालय में तैनात पीठासीन अधिकारी चंद्रिका वर्डे ने महिला मतदान केन्द्रों की पहल के लेकर कहा "यह वास्तव में अच्छी पहल है। इससे हम लोगों को चुनावी प्रक्रिया को समझने का अवसर मिल रहा है लेकिन अच्छा होता कि यदि ईवीएम, वीवीपैट मशीनों को लाने और वापस जमा कराने के लिये कोई पुरूष सहयोगी मिल गया होता।"

राजस्थान चुनावसाभार: इंटरनेट

महिला कर्मियों ने देर रात घर जाना खतरा भरा बताया

कुछ महिला कर्मी जो मतदान केन्द्रों पर पहली बार तैनात की गई थीं उन्होंने कहा कि "मतदान के बाद मशीनों को देर रात जमा कराने के बाद घर पहुंचना, थोड़ा खतरा भरा है।" डॉक्टर जोगाराम (मुख्य चुनाव अधिकारी) ने कहा था कि "विभाग को महिला कर्मियों की तरफ से कोई शिकायत नहीं मिली है अगर मिली तो उन्हें दूर करने के उपाय किये जांएगे।"



सीकर के फतेहपुर में सुभाष स्कूल में स्थित पोलिंग बूथ में दो समूहों के बीच संघर्ष भड़क उठा जिसके बाद वहां पर कुछ वाहनों में आग लगा दी गई और हंगामा हुआ। इसके चलते पोलिंग बूथ पर वोटिंग 30 मिनट के लिए बाधित रही। पुलिस ने बाद में शरारती तत्वों को वहां से हटाया और इसके बाद वोटिंग दोबारा शुरू करवाई गई।


Share it
Top