#स्वयंफेस्टिवल : दीदी हमारे कुछ बड़े हैं जो हमको गलत तरीके से छूते हैं

Rishi MishraRishi Mishra   6 Dec 2016 2:46 PM GMT

#स्वयंफेस्टिवल : दीदी हमारे कुछ बड़े हैं जो हमको गलत तरीके से छूते हैंमानसरोवर योजना कानपुर रोड में मलिन बस्ती के बच्चों को सिखाया गया गुड टच बैड टच।

लखनऊ। दीदी हमारे कुछ बड़े हैं जो हमको गलत तरीके से छूते हैं। हमने कई बार उनको मना किया मगर वो मानते ही नहीं है। बताओ हम क्या करें। आज जब आप लोग बता रहे हो तब हमको इस बात का पता चला है। 11 और 12 साल की दो लड़कियों ने ये बातें हमारी कोआर्डिनेटर स्वाती शुक्ला को यहां बैड टच गुड टच सेशन के बाद आकर अलग से कही। तब सामने आया कि किस तरह से बच्चियों के साथ उनके ही घर में शारीरिक शोषण किया जा रहा है।

मानसरोवर योजना कानपुर रोड में मलिन बस्ती के बच्चों को बताया कैसे करेंगे शोर।

स्वयं फेस्टिवल के पांचवें दिन मंगलवार को स्वयं फेस्टिवल की टीम का ठिकाना रहा मान सरोवर योजना कानपुर रोड की मलिन बस्ती। जहां बच्चों के चिकित्सा शिविर के साथ ही इनको गुड टच और बैड टच की जानकारी भी दी गई। बच्चों को बताया गया कि उनको अगर कोई छू रहा है तो उसकी नीयत कैसी है, इसका अंदाजा वे बहुत आसानी से लगा सकते हैं। वे शोर मचा कर और ऐसे व्यक्ति से दूर रह कर आने वाले खतरों से बच सकते हैं। इस सत्र के बाद स्वयं कोआर्डिनेटर स्वाती के पास बस्ती की दो बच्चियां आईं। इनमें से एक 11 और दूसरी 12 साल की थी। एक ने बताया कि उसके सगे चाचा और दूसरी को उसका पड़ोसी बैड टच करते हैं। जिससे उनको बहुत ही खराब लगता है। वे मानसिक तौर पर परेशान हो गई हैं। जिस पर उनको बताया गया कि आगे से ऐसा करने पर वे शोर मचाएं। वह ऐसे व्यक्ति से दूर रहें।

केके अस्पताल से आए डॉ नितिन दुबे ने यहां करीब 50 बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण किया।

मान सरोवर कॉलोनी की बस्ती में बच्चों मेडिकल कैंप के दौरान निशुल्क जांच और दवाओं की सुविधा मिली। डालीगंज के केके अस्पताल से आए डॉ नितिन दुबे ने यहां करीब 50 बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण किया। इसके अलावा इन बच्चों को निशुल्क दवाइयों का वितरण किया गया। इनको स्वस्थ रहने के लिए किस तरह से सफाई से रहना चाहिये खुले में ट्वायलेट नहीं जाना चाहिये, ये जानकारियां भी दी गईं।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top