औरैया : कपड़ों के साथ मिली मिठाई तो चमके चेहरे, छाई खुशी की लहर 

Ishtyak KhanIshtyak Khan   16 Oct 2017 6:56 PM GMT

औरैया : कपड़ों के साथ मिली मिठाई तो चमके चेहरे, छाई खुशी की लहर औरैया

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

औरैया। गरीबों की खुशियों में शरीक होने के लिए गाँव कनेक्शन फाउंडेशन ने कपड़े, मिठाई, खिलौने और स्कूली बैग बांटे, कपड़े और मिठाई जैसे ही लोगों के हाथ लगी तो उनके चेहरे की रौनक बयां कर रही थी कि मानों आज ही दीपावली का त्यौहार हो। खिलौने और स्कूली बैग मिलने पर बच्चों ने खुशी का इज़हार किया।

जिला मुख्यालय से 10 किमी दूर शहर के सुभाष चौक कानपुर रोड पर स्थित लोहा पीटा समुदाय के लोगों को सबसे पहले कपड़े दिये गए। लोहा पीटा समुदाय के 20 परिवार फुटपाथ पर रहकर अपना जीवन यापन कर रहे है।

कपड़े और मिठाई पाकर लोहा पीटा समाज के लोगों के चेहरों की रंगत बदल गई। उनके चेहरे की खुशी देखकर लग रहा था जैसे दीपावली का त्यौहार आज ही हो। भीखमपुर बस्ती में रहने वाले बाल्मीक समाज के लोगों को कपड़े, मिठाई और बच्चों को खिलौने दिये गए। भीखमपुर में तकरीबन 50 परिवार के लोगों को कपड़े वितरित किये गए। इसके बाद शहर के किनारे स्थित ईंट भट्टों पर काम करने वाले श्रमिकों को कपड़े दिए गए।

औरैया

ज्यादातर कपड़े पुरूषों और महिलाओं के रहे। स्कूल जाने वाले बच्चों ने कपड़ों की जगह सबसे पहले बैग लिए। इसके बाद खिलौने पाकर काफी खुश दिखाई दिये। बाल्मीक समाज की शीतला (65 वर्ष) कहती हैं, “हर त्यौहार पर ऐसे ही कपड़े मिलने लगे तो कहीं और मांगने की जरूरत ही न पड़े।

कपड़ा वितरण में भाजपा के शहर मीडिया प्रभारी गौरव बाजपेई, मानवाधिकार सुरक्षा संस्थान, आईसीइआरटी और राजकीय बालिका इंटर कालेज एरवाकटरा की प्रधानाचार्या पायल जैन का सहयोग रहा।

जिला प्रेस क्लब के अध्यक्ष सुरेश मिश्रा ने कहा, “गाँव कनेक्शन अखबार ने एक बहुत ही नेक काम किया है जो बहुत ही सराहनीय है। इसी तरह समाज के उच्च तबके के लोगों को सामने आना चाहिए जो गरीबों की मदद आज अखबार कर रहा है वहीं उच्च वर्ग के लोगों को करनी चाहिए जिसकी आज लोगों को जरूरत है। जिले के सभी पत्रकारों ने कपड़ा वितरण के कार्यक्रम के साथ गाँव कनेक्शन के फाउंडर की जमकर सराहना की।"

ये भी पढ़ें : #स्वयं फेस्टिवल: घर-घर और खेत-खेत जाकर पशुओं को लगाए गए टीके

स्वयं फेस्टिवल में किसानों ने पारंपरिक अऩाज देकर किया मुख्यमंत्री का स्वागत

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top