गाँव के लिए आई लाइटों से रोशन हो रहा नेता जी का आशियाना

गाँव के लिए आई लाइटों से रोशन हो रहा नेता जी का आशियानाGaon Connection

बागपत। ज़िले के हसनपुर मसूरी गाँव को रोशन करने के लिए सरकार ने 13 सोलर लाइटें भेजी थीं, लेकिन वो लाइटें गाँव की गलियों की बजाय एक स्थानीय नेता के घर और निजी संस्थान को रोशन कर रही हैं। लाखों रुपए की सरकारी संपत्ति के के बेजां इस्तेमाल का खुलासा तब हुआ जब एक जिला पंचायती राज अधिकारी गाँव में सर्वेक्षण के लिए पहुंचा। एक लाइट की कीमत 65 हजार रुपये बताई जा रही है।

जिला मुख्यालय से 15 किलोमीटर दूर दिल्ली-सहारनपुर रोड के पास बसे हसनपुर मसूरी गाँव में तीन साल पहले नेडा ने 13 सोलर लाइटें भेजी थीं। काफी दिन तक लाइटें तत्कालीन ग्राम प्रधान के यहां रखी रहीं फिर उन्हें एक स्थानीय नेता के घर पर लगवा दिया गया। मामले का खुलासा तब हुआ जब जिला पंचायती राज अधिकारी सर्वेश कुमार पांडेय जांच के लिए पहुंचे। वर्तमान प्रधान इस बारे में कुछ बता नहीं पाए तो डीपीआरओ ने नेडा विभाग के पीओ से बात की। पीओ ने तत्कालीन प्रधान के घर लाइटें रखने की पुष्टि की। मामला गाँव के लोगों तक पहुंचा तो उन्होंने बताया कि ऐसी लाइटें तो एक स्थानीय नेता घर और उनके परिवार के मकानों पर लगा दी गई हैं। डीपीआरओ सर्वेश कुमार पांडेय बताते हैं, ''मैंने सोलर लाइट गायब होने के मामले की रिपोर्ट मुख्य विकास अधिकारी को सौंप दी थी और यह भी बता दिया था कि यह लाइट एक पार्टी के वरिष्ठ नेता के मकान पर लगायी गयी है। पूर्व प्रधान और नेडा विभाग की इसमें मिलीभगत है।''

हालांकि रिपोर्ट सौंपे काफी दिन हो गए हैं लेकिन इस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। वर्तमान प्रधान नवीन चंद शर्मा ने डीएम से भी गुहार लगाई है। इतना ही नहीं ग्राम प्रधान है ने अपनी जान को खतरा भी बताया है। लोगों का कहना है क्योंकि मामला सत्ताधारी पार्टी के दबंग नेता से जुड़ा है इसलिए नेडा और स्थानीय प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है।

हालांकि मुख्य विकास अधिकारी जे पी रस्तोगी बताते हैं, ''मामले की जांच बैठी हुई है। रिपोर्ट आते ही कार्रवाई की जाएगी। नेडा के पीओ का कहना है कि लाइटें बरामद हो गई हैं।''

रिपोर्टर - सचिन त्यागी

Tags:    India 
Share it
Top