गाँव के युवा ने दुनिया में रोशन किया नाम

गाँव के युवा ने दुनिया में रोशन किया नामगाँव कनेक्शन

लखनऊ। एक छोटे गाँव से निकल कर किसान के बेटे सतपाल (25 वर्ष) ने फोटोग्राफी में देश का नाम पूरे विश्व में ऊंचा किया। 

युवा वाइल्ड लाइफ  फोटोग्राफर सतपाल सिंह, उत्तर प्रदेश के लखीमपुर जिले के अलीनगर गाँव के रहने वाले हैं। उनके पिता जसवंत सिंह खेती करते हैं।  

सतपाल को 'नेचर्स बेस्ट फोटोग्राफी एशिया अवार्ड्स 2015' में लैंडस्केप डिवीज़न में प्रथम पुरस्कार व 'स्माल वर्ल्ड कैटेगरी' में एक तस्वीर को 'हाइली आनर्ड विनर' का पुरस्कार मिला है।

पुरस्कार पाने के बाद सतपाल सिंह बताते हैं, ''यह सम्मान मेरे लिए कई मायनों में खास है और मुझे बहुत खुशी है कि इसे प्राप्त कर मुझे देश का गौरव बढ़ाने का मौका मिला।"

छह वर्ष के फोटोग्राफी करियर में 37 राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कार जीत चुके हैं।

नेचर्स बेस्ट फोटोग्राफी एशिया अवार्ड्स का आयोजन नेचर्स बेस्ट फोटोग्राफी पत्रिका, अमेरिका व  स्मिथसोनियन नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम, वाशिंगटन, संयुक्त राज्य अमेरिका करती है। यह दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी पुरस्कारों में से एक है। स्मिथसोनियन नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम दुनिया के सबसे प्रमुख और अत्याधिक भ्रमण किए जाने वाले संस्थानों में से एक है। प्रत्येक वर्ष इस म्यूजियम को देखने पूरे विश्व से करीब 70 लाख लोग यहां पहुंचते हैं।

सतपाल उन पांच चयनित एशियाई विजेताओं में से एक हैं जिन्हे यह सम्मान अमेरिका के वाशिंगटन में 12 नवंबर, 2015 को स्मिथसोनियन नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम में दिया गया। इस पुरस्कार को जापान के सार्वजानिक मामलों के मंत्री व एम्बेसी प्रवक्ता मसातो ओटाका ने दिया। इस सम्मान समारोह में सतपाल को पुरस्कार के साथ करीब पैंसठ हजार रुपए की राशि दी गई।

इस वर्ष सभी एशियाई देशों से पाँच वर्गों में पांच कैटेगरी विनर्स (प्रथम पुरस्कार) व 25 हाइली आनर्ड विनर्स चुने गए। इस वर्ष प्रथम पुरस्कार के लिए सतपाल सिंह व दो अन्य भारतीय सुयश केशरी तथा प्रमोद सीएल व अन्य देशों से तेत्सुजी अकिमोतो जापान तथा मिंघु युआन चाइना से चुने गए। भारतीय विजेताओं में सतपाल का प्रदर्शन सर्वश्रेष्ठ रहा क्योंकि उन्हें एक प्रथम पुरस्कार के साथ ही 'हाइली आनर्ड विनर' के लिए भी चुना गया।

सतपाल की तस्वीर समेत सभी पुरस्कृत तस्वीरों को करीब एक वर्ष के लिए स्मिथसोनियन म्यूजियम की फोटो गैलरी में लगाया जाएगा तथा योकोहामा, जापान में अगस्त 2016 में प्रदर्शित किया जाएगा व कुछ अन्य एशियाई देशों में भी प्रदर्शनी लगाने पर विचार किया जा रहा है।

इन देशों में भी जीते पुरस्कार

भारत समेत अमेरिका, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, फ्रांस, ग्रीस, सिंगापुर, रूस, मलेशिया आदि देशों में करीब 35 राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार जीत चुके सतपाल कई बार देश को गौरावांवित कर चुके हैं। कुछ माह पूर्व फ्रांस में प्रतिष्ठित पर्यावरण फोटोग्राफी पुरस्कार 'मेलवीटा नेचर इमेजेस अवार्ड्स 2014' में पूरे विश्व से 36 फोटोग्राफर्स चुने गए थे। जिसमें सतपाल एशिया से अकेले फोटोग्राफर थे।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top