गाँवों तक स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाने का प्रयास: मुलायम

गाँवों तक स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाने का प्रयास: मुलायमgaoconnection

इटावा। प्रदेश में अब तक 22 मेडिकल कॉलेज बन चुके हैं और अभी भी दो मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं। आने वाले कुछ वर्षों में प्रदेश सरकार का लक्ष्य 40 मेडिकल कॉलेज बनाने का है। इनमें से अधिकांश मेडिकल कॉलेज प्रदेश के ग्रामीण अंचलों को ध्यान में रखकर बनाये जा रहे हैं ताकि गरीब और जरूरतमंद लोगों तक स्वास्थ्य सुविधाएं आसानी से पहुंच सकें। यह बातें पूर्व रक्षामंत्री एवं सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने उत्तर प्रदेश ग्रामीण आयुर्विज्ञान एवं अनुसंधान संस्थान में कहीं। 

वह बुधवार को मेडिकल, पैरामेडिकल, नर्सिंग तथा फार्मेसी कॉलेज के इस वर्ष के उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान मुलायम सिंह यादव ने कहा कि उनकी सरकार का लक्ष्य है कि चिकित्सा शिक्षा के मामले में उत्तर प्रदेश पहले स्थान पर हो। उन्होंने बताया कि बिना उत्तर प्रदेश के विकास के देश का विकास संभव नहीं है।

उन्होंने कहा कि मेडिकल की पढ़ाई पूरी करने के बाद मेडिकल छात्र-छात्राएं अपनी रुचि के अनुरूप विशेष चिकित्सकीय क्षेत्र में आगे की पढ़ाई करें। चिकित्सा क्षेत्र में व्यापक सुधार ने धनी व्यक्तियों को भी देश में इलाज के लिए प्रेरित किया है। अब बामुश्किल ही कोई अमेरिका या ब्रिटेन जाने की सोचता है। उन्होंने कहा कि सैफई स्थित आयुर्विज्ञान संस्थान के पास विश्वस्तर की चिकित्सा सुविधाएं देने के लिए सम्बन्धित उपकरण एवं आधारभूत संरचना मौजूद है। आने वाले समय में यह आयुर्विज्ञान संस्थान देश के सबसे अच्छे एवं अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस चिकित्सा संस्थानों में शुमार हो जायेगा।

संस्थान के निदेशक डॉ. ब्रिगेडियर टी. प्रभाकर ने बताया कि संस्थान के पहला बैच ने 2006 में प्रवेश लिया और तब से लेकर अब तक 450 चिकित्सक संस्थान ने देश को दिये हैं। इसके अतिरिक्त वर्तमान में लगभग तीन हजार छात्र-छात्रायें विभिन्न पाठ्यक्रमों में पढ़ रहे हैं। इस दौरान संस्थान के निदेशक डॉ. ब्रिगेडियर टी. प्रभाकर, संकाय अध्यक्ष प्रो. केएम शुक्ला, चिकित्सा अधीक्षक डॉ. ब्रिगेडियर एसके गुप्ता, अपर निदेशक प्रशासन राधाकृष्ण सिंह आदि उपस्थित रहे। 

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top