तालाब का काम आधा रुका पड़ा है, किसी को मतलब नहीं

तालाब का काम आधा रुका पड़ा है, किसी को मतलब नहींशाहजहांपुर ज़िले के गांव कटैया खुर्द के तालाब का काम बीच में ही रोक दिया गया है।

शाहजहांपुर। आजादी मिले 69 साल बीत गए लेकिन शाहजहांपुर का एक गांव ऐसा है जहां अब तक बिजली नहीं पहुंची। यहां तक कि गांव में पक्के शौचालय भी नहीं बने हैं। महिलाओं तक को शौच के लिए घर से बाहर जाना पड़ता है।

सरकार विकास के लिए तमाम योजनाएं चला रही है परन्तु यहां पर विकास शून्य है। गांव के अन्दर की सड़कें बनी नहीं हैं, बिजली है नहीं, ऊपर से मनरेगा की व्यवस्था दयनीय है।

गांव कटैया खुर्द जनपद मुख्यालय से करीब 12 किमी उत्तर दिशा में ब्लाक सिंधौली क्षेत्र के अन्तर्गत पूर्व दिशा में एक किमी दूरी पर है। ग्राम पंचायत सैजना क्षेत्र लगती है। गांव की खराब हालत से ग्रामीण बहुत गुस्से में हैं।

जब से पैदा हुए हैं तब से आज तक बिजली के खम्भे तक नहीं लगे, बिजली कहां से आयेगी जबकि ब्लॉक सिंधौली से करीब एक किमी दूर है। बिजली के लिए कई बार ग्राम प्रधान और पंचायत सदस्य से कहा, पर कुछ नहीं किया गया जबकि जिला पंचायत सदस्य सुरेश पाल का एक घर इसी गांव में है। तालाब का काम जून 2016 में शुरू हुआ लेकिन बीच में ही रोक दिया गया।
हरपाल, किसान

बीबीए छात्र राकेश कुमार (आयु 25 वर्ष) और बीरेन्द्र पाल (आयु 35 वर्ष) बताते है कि गांव में प्रधान द्वारा अभी तक शौचालय नहीं बनाए गए। मौजूदा प्रधान बजट न होने की बात कहकर टाल देता है।

कई बार बिजली के लिए सीडीओ को लिखा और बिजली विभाग के जेई को बताया गया लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की गई।
सुरेश पाल, जिला पंजायत सदस्य

Share it
Top