पुत्र-पिता ने एक ही विधानसभा से ठोंकी दावेदारी

पुत्र-पिता ने एक ही विधानसभा से ठोंकी दावेदारीपिता-पुत्र ने एक ही विधानसभा क्षेत्र से दावेदारी ठोंक दी है। पुत्र निर्दलीय रूप से चुनाव लड़ेंगे तो पिता बसपा प्रत्याशी हैं।

कन्नौज। पिता-पुत्र ने एक ही विधानसभा क्षेत्र से दावेदारी ठोंक दी है। पुत्र निर्दलीय रूप से चुनाव लड़ेंगे तो पिता बसपा प्रत्याशी हैं।

तिर्वा विधानसभा क्षेत्र से बसपा प्रत्याशी के रूप में विजय सिंह विद्रोही को टिकट दिया गया है। उन्होंने दो दिनों में चार सेट में अपने नामांकन पत्र दाखिल किए हैं। पहले तीन सेटों में और शुक्रवार को चौथा तथा अंतिम सेट भी दाखिल कर दिया। इसी दिन उनके पुत्र गौरव सिंह उर्फ संजय ने भी निर्दलीय रूप से पर्चा भरा है। गौरव ने अपने पास 25 हजार की नकदी होने की बात शपथ पत्र में कही है। उनके पास स्कार्पियो गाड़ी और तीन लाख के जेवरात हैं।

पत्नी के पास पांच लाख के जेवर हैं। चल संपत्ति 55 लाख और अचल संपत्ति नहीं है। पत्नी के पास 12 लाख से अधिक की चल संपत्ति है। गौरव एमए और एमएड हैं। 25 जनवरी को बसपा के तीनों विधानसभा क्षेत्र प्रत्याशियों ने पर्चे दाखिल किए थे। उस समय जिलाध्यक्ष अजय भारती गैरहाजिर रहे थे। 27 जनवरी को वह चौथा सेट दाखिल करने गए विजय विद्रोही के साथ दिखे।

मंत्री को टिकट मिला पर अभी तक नहीं लिया पर्चा

सपा से टिकट मिलने के बाद तिर्वा से विधायक और माध्यमिक शिक्षा राज्यमंत्री विजय बहादुर पाल ने चार दिन बीत जाने के बाद भी नामांकन पत्र नहीं लिया है। आज रविवार होने की वजह से नामांकन पत्र दाखिल नहीं हो सकेंगे। 30 और 31 दो दिन ही कार्यदिवस बचे हैं। इसको लेकर तरह-तरह की चर्चाएं हैं।

कहा जा रहा है कि तिर्वा विधानसभा क्षेत्र से सांसद डिम्पल यादव के प्रतिनिधि नवाब सिंह यादव और उनके समर्थक टिकट मांग रहे थे। पर एक बार फिर से राज्यमंत्री को ही टिकट दे दिया गया है। इससे नवाब समर्थकों में मायूसी है। साथ ही कहा यह भी जा रहा है कि राज्यमंत्री अपने पुत्र अनिल पाल के लिए टिकट देने की मांग रहे थे। हालांकि चौथे दिन तक उन्होंने पर्चा नहीं लिया। नामांकन पत्र न लेने की पुष्टि रिटर्निंग आफीसर राजेश कुमार यादव ने भी की है।

Share it
Top