फैक्ट्री के गन्दे पानी से गाँवो में फ़ैल रही बीमारी

फैक्ट्री के गन्दे पानी से गाँवो में फ़ैल रही बीमारीदूषित पानी दिखाता युवक।

मोहित कुमार सैनी, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

मेरठ। जिले के परतापुर थाना इलाके के दर्जनों गाँव जल से होने वाली बीमारियों से ग्रसित हैं। इसका कारण यहां पर वर्षों से स्थित फैक्ट्री से निकलने वाले रासायनिक गंदे पानी है।मेरठ से नौ किमी दूर परतापुर इंडस्ट्रियल एरिया है। इस एरिया के रहने वाले ग्रामीण कैंसर, लकवा, पीलिया, विकलांगता आदि ऐसी ही घातक बीमारियों का शिकार हो रहे हैं।

गाँव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

यहां के रहने वाले रामकिशोर वर्मा बताते हैँ, "यहां पर वर्षोँ से कई फैक्ट्रियां चल रही हैँ जिनका केमिकल युक्त गंदा पानी पूरे इलाके के भूजल को खराब कर रहा है। जिसकी वजह से यहां हैँडपंप में पीला बदबूदार पानी आता है जिसे यहां के निवासी पीने को मजबूर हैँ।" रामकिशोर आगे बताते हैँ, "जिला प्रशासन से कई बार शिकायत कर चुके हैं, लेकिन आज तक प्रशासन ने कोई कार्रवाई नहीं की।"

अगर इस तरह की कोई कंपनी है जिसकी वजह से गाँव में बीमारी फैल रही तो सख्त कार्रवाई की जाएगी। सबसे पहले हेल्थ है बाकि सब बाद में।
उप जिलाधिकारी, मेरठ

इसी गाँव के निवासी राजकुमार शर्मा (53 वर्ष) बताते हैं, "हमारे गाँव की आबादी करीब एक हजार की है। हमारे गाँव में वर्षों से लोहे को गलाने की फैक्ट्री स्थित है। यहां से निकलने वाला गंदे पानी की वजह से उसका रसायन गाँव में लगे हैंडपम्पों में पहुंच रहा है जिसके कारण गाँव के लोग कई घातक बीमारियों से ग्रस्त हो रहे हैँ।" प्रमोद कुमार (45 वर्ष) बताते हैं, "यहां का पानी बिल्कुल तेज़ाब है। सभी नलों का पानी पीला हो चूका है। कंपनी को लेकर हंगामा भी किया, लेकिन गाँवो वालो की कोई नहीं सुनता।"

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top