साहब के काम से नहीं मिलती फुर्सत भला गाँव में कैसे सफाई करें सफाईकर्मी

गाँव कनेक्शनगाँव कनेक्शन   18 April 2017 12:01 PM GMT

साहब के काम से नहीं मिलती फुर्सत भला गाँव में कैसे सफाई करें सफाईकर्मीगाँव में सफाई कर्मियों की नियुक्ति की गई है, लेकिन गाँवों में सफाईकर्मी काम नहीं कर रहे हैं।

अश्वनी द्विवेदी, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। गाँवों को साफ-सुथरा रखने के लिए जनपद के प्रत्येक गाँव में सफाई कर्मियों की नियुक्ति की गई है, लेकिन अधिकांश गाँवों में सफाईकर्मी काम नहीं कर रहे हैं। सफाईकर्मियों को मानदेय तो सफाई करने के लिए मिल रहा है, लेकिन अधिकारी उनसे अपना व्यक्तिगत कार्य करा रहे हैं, जिससे गाँवों में गंदगी का अंबार लगा हुआ है।

सरोजनी नगर विकास खंड के ग्राम पंचायत युसूफ नगर बगिया की प्रधान सुनीता यादव ने बताया, “गाँव में ढेड़ साल से सफाईकर्मी नहीं आया। पूछने पर कहता है कि ब्लॉक के स्वच्छ भारत अभियान में ड्यूटी लगी है। कई बार ग्राम विकास अधिकारी और पंचायत सचिव सभापति वर्मा से भी इसकी शिकायत की जा चुकी है, बावजूद इसके गाँव में सफाईकर्मी नहीं आ रहा है।”

गाँव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

चिनहट विकास खंड के ग्राम पंचायत मिर्जापुर के प्रधान अनवार ने बताया, “तीन-तीन महीने तक सफाईकर्मी गाँव नहीं आते हैं। ग्राम पंचायत में करीब 4000 लोगों की आबादी पर एक सफाईकर्मी है। अधिकारियों से बात करो तो वो कोई कार्रवाई नहीं करते हैं, क्योंकि अधिकारियों ने ही उन्हें व्यक्तिगत कार्यों में लगा रखा है।”

लखनऊ में पंचायतों में कुल 700 सफाईकर्मी हैं। जिनमें से कुछ सफाई कर्मी लिखित रूप से विभाग में सम्बद्ध हैं। बाकी स्थानों पर सफाईकर्मी जा रहे हैं। जहां नहीं जा रहे हैं उनके खिलाफ वेतन कटौती के साथ अनुशानात्मक कार्रवाई की जाएगी।
उमाशंकर मिश्रा, जिला पंचायत राज अधिकारी

चिनहट विकास खंड के ग्राम पंचायत काकौली के प्रधान अवधेश यादव का कहना है, “सफाईकर्मी बुलाने से भी नहीं आता है। कई बार वीडियो से भी कहा गया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। ’

वहीं ग्राम विकास अधिकारी विकास खंड के ग्राम पंचायत खेसरावा के प्रधान सौरभ सिंह राठौर ने बताया, “2000 लोगों की जनसंख्या पर दो सफाईकर्मी हैं, लेकिन कभी आते नहीं हैं। एडीओ पंचायत से लिखित में शिकायत भी गई गई, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top