स्कूल में नहीं पानी, ढाई वर्ष से खराब पड़ा हैंडपंप

स्कूल में नहीं पानी, ढाई वर्ष से खराब पड़ा हैंडपंपहैंडपंप खराब होने से बच्चों को गर्मी में पीने के लिए पानी भी नहीं मिल रहा है।

प्रशांत श्रीवास्तव ,स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

बहराइच। एक तरफ राज्य सरकार प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक विद्यालयों की शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए बॉयोमैट्रिक, ड्रेस कोड, छात्रवृति जैसी नयी योजनाओं को लागू करने पर विचार कर रही है। वहीं जिले में अध्यापकों और बच्चों को इस गर्मी में पीने के लिए पानी भी नहीं मिल रहा है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

जिला मुख्यालय से 30 किमी. दक्षिण फखरपुर ब्लाक के बमियारी, वजीरगंज समेत कई ग्राम सभाओं के प्राथमिक विद्यालयों और पूर्व माध्यमिक विद्यालयों के सरकारी नल या तो बंद पड़े हैं, या उनमें से गन्दा पानी आ रहा है। ऐसे में छात्रों और अध्यापकों को इस आग उगलती गर्मी में पीने के पानी के लिए स्कूल के आस पास बने घरों पर निर्भर हैं।

बमियारी ग्राम पंचायत के प्राथमिक विद्यालय के कक्षा चार में पढ़ने वाले सुमित ने बताया, “आज करीब ढाई साल से इंडिया मार्क हैंडपंप खराब पड़ा है, जिससे स्कूल के बच्चों को पानी की भारी दिक्कत का सामना करना पड़ता है।”

ग्राम प्रधान रमाकांत पाठक से जब बात की तो उन्होंने बजट न मिलने का हवाला दिया। उन्होंने कहा कि जब बजट होगा, तब काम होगा, उससे पहले कुछ नहीं करवा सकते।कक्षा पांच में पढ़ने वाली नंदनी मिश्र ने बताया, “यहां का नल ख़राब है। ऐसे में हम सभी लोग पानी पीने के लिए गाँव मे रसोईया का घर जाते हैं, जो स्कूल के नजदीक है, जहां हम लोग पानी पीने जाते हैं।”


ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top