गेहूं खरीद का लक्ष्य भी नहीं पूरा कर पाया जौनपुर जिला

Khadim Abbas RizviKhadim Abbas Rizvi   24 Jun 2017 1:32 PM GMT

गेहूं खरीद का लक्ष्य भी नहीं पूरा कर पाया जौनपुर जिलानहीं हुई खरीद।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

जौनपुर। गेहूं की अच्छी पैदावार होने के बावजूद जिला खाद्य विपणन विभाग गेहूं की खरीद लक्ष्य के सापेक्ष करने में नाकाम रहा है। इससे साफ है कि बिचौलियो नेकिसानों को गुमराह करके गेहूं खरीद लिया है। वहीं किसानों का यह कहना है कि गेहूं क्रय केंद्रों पर अव्यवस्था थी। इतना ही नहीं किसानों से कई केंद्रों पर गेहूं खरीदा ही नहीं गया।

इस बार जिले में 77 हजार गेहूं की अच्छी पैदावार हुई थी, इसी को देखते हुए यहां गेहूं खरीद का लक्ष्य 81 हजार एमटी रखा गया था। इसके लिए सात एजेंसियों के 103 गेहूंक्रय केंद्रों को इसकी जिम्मेदारी दी गई थी। सात एजेंसियों में मार्केटिंग का 21, पीसीएफ का 71 एग्रो का तीन, एनसीसीएफ का तीन, नेफेड का दो, कर्मचारी कल्याण निगमका दो, एफसीआई का एक केंद्र शामिल किया गया था।

ये भी पढ़ें : मेरठ में इस साल दोगुनी हुई गेहूं की खरीद

इन केंद्रों को एक अप्रैल से लेकर 15 जून तक 81 हजार एमटी गेहूं की खरीद करनी थी। इसके लिए उन्हें निर्देश दिए गए थे कि किसानों की पहुंचजहां आसानी हो सके, उन जगहों पर केंद्र खोलकर किसानों से गेहूं की खरीदारी करें, लेकिन केंद्र इसकी खरीदारी करने में असफल रहे हैं। क्रय केंद्र केवल 36 हजार एमटी ही गेहूं खरीद सके हैं। किसानों ने बिचौलियों को गेहूं बेच दिया। इसलिए वह लक्ष्य को नहीं पा सके हैं। जबकि किसानों का कहना है कि क्रय केंद्र पर गेहूं की खरीदारी ही नहीं की गई।

ये भी पढ़ें : पिछले वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष ज्यादा हुयी गेहूं की खरीद

करंजाकला ब्लॉक मनेछा गाँव निवासी हरि प्रसाद यादव (55वर्ष) का कहना है,“ केंद्र पर गेहूं लेकर गए थे लेकिन केंद्र बंद था। ऐसे में बार-बार केंद्र पर गेहूं लेकर जाने मेंअतिरिक्त किराया भी लगता है। इससे दिक्कत हुई।”

वहीं बदलापुर ब्लॉक बबुरा गाँव के रवि प्रकाश (35वर्ष) का कहना है,“ केंद्र पर अव्यवस्था के कारण ही बहुत से किसानों को मजबूरी के नाते बिचौलियों को गेहूं बेचना पड़ाहै।”

गेहूं खरीद के नोडल अधिकारी आरपी मिश्रा ने बताया, “जिले में 81 हजार एमटी गेहूं खरीदारी का लक्ष्य मिला था, जबकि 77 हजार पैदावार हुई थी। पैदावार के हिसाब से अच्छी खासी खरीददारी हुई है।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिएयहांक्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top