मौरंग और बालू की कीमतों में उछाल से रुका विकास कार्य

Arun MishraArun Mishra   31 May 2017 2:07 PM GMT

मौरंग और बालू की कीमतों में उछाल से रुका विकास कार्यमौरंग की उपलब्धता न होने के कारण निर्माण कार्य रोकना पड़ा।

बाराबंकी। प्रदेश में नई सरकार ने खनन पर पूर्ण रूप से रोक लगा दी। ऐसे में पूरे प्रदेश में होने वाला विकास कार्य पूर्ण रूप से रुक गया है। जहां कुछ महीने पहले मौरंग के दाम 40 से 45 रुपये प्रति वर्ग फीट थे, वहीं अब मौरंग के दाम 150 से 200 रुपये प्रति वर्ग फीट हो गए है। बाजार में मौरंग व बालू है ही नहीं, जिनके पास हैं भी, वे मज़बूरी का फायदा उठा कर महंगे दामों में बेच रहे हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

बाराबंकी मुख्यालय से 60 किमी दूर महमतियनपुरवा के पास चौका व चौरारी नदी पर लगभग तीन महीने से पुल निर्माण का कार्य चल रहा है, लेकिन मौरंग के आभाव में एक सप्ताह से कार्य रुका है। कार्य न होने के कारण मजदूर अपने-अपने घर चले गए हैं।

इंजीनियर सुभाष चंद्र यादव ने बताया, “पुल निर्माण का कार्य पिछले तीन महीनों से चल रहा है। हमें पर्याप्त मात्रा में निर्माण सामग्री मिल रही थी, लेकिन 15 दिनों से पुल निर्माण में लगने वाली सामग्री खासकर मौरंग की उपलब्धता न होने के कारण निर्माण कार्य रोकना पड़ा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top