प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना उत्तर प्रदेश में लक्ष्य से पीछे 

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना उत्तर प्रदेश में लक्ष्य से पीछे प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना निर्माण कार्य लक्ष्य से पीछे।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। देश के ग्रामीण क्षेत्रों को पक्के संपर्क मार्गों से जोड़ने के लिए प्रधानमंत्री द्वारा चलाई जा रही ग्राम सड़क योजना में वर्ष 2016 -17 तक उत्तर प्रदेश में कुल 3,900 किलोमीटर क्षेत्र में सड़कों के उच्चीकरण करने का लक्ष्य रखा गया है, लेकिन अभी तक इस लक्ष्य के सापेक्ष 2,700 किलोमीटर क्षेत्र में सड़कें बनाई जा सकी हैं। ऐसे में अब तक 1200 किमी. अपने लक्ष्य से यह योजना काफी पीछे है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इस योजना में उत्तरप्रदेश का हाल बताते हुए प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना (उत्तर प्रदेश) के राज्य गुणवत्ता समन्वयक शशांक रस्तोगी ने बताया, ‘’ केंद्र से मिली पहली प्राथमिकता सूची में हमने यूपी में एक हज़ार से अधिक आबादी वाले सभी गाँवों में पक्की सड़क का निर्माण कार्य पूरा कर लिया है। अभी ऐसे गाँव जिनके बीच कोई बड़ा पुल, नदी, नाला या फिर वन क्षेत्र गुज़रता है, उन्हें असाध्य गाँवों की श्रेणी में रखकर, वहां पर सड़क निर्माण रोका गया है।’’ दूसरी ओर, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में पिछले वर्ष चुने गए गाँवों में से 12 गाँवों को असाध्य गाँवों की श्रेणी में रखा गया है।

इसके कारण इन गाँवों को योजना में पात्र होने के बावजूद भी कोई लाभ नहीं मिल सका है। असाध्य गाँवों की जानकारी देते हुए प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, उत्तर प्रदेश के कार्यक्रम प्रबंधक सतीश शुक्ला बताते हैं,’’ प्रदेश में असाध्य गाँव ज़्यादातर जौनपुर, सोनभद्र, बलिया और महाराजगंज जिलों के हैं। इनमें से अधिकतर गाँवों के संपर्क मार्ग की चौड़ाई तीन मीटर से भी कम है। कुछ गाँवों में लोगों की रंजीश और आपसी मदभेदों के कारण गाँव को असाध्य घोषित किया गया है। सरकार के आदेश पर इन में काम फिर से शुरू किया जाएगा।’’

पूरे प्रदेश में 2001 की जनगणना के मुताबिक विभाग की तरफ से 1,000 और 500 की आबादी वाले गाँवों में सड़क निर्माण कार्य लगभग पूरा किया जा चुका है। अभी 40 से 45 गाँवों में निर्माण कार्य बाकी रह गया है। इसे जल्द पूरा किया जाएगा।
मो. मुर्तज़ा, सूचना प्रौद्योगिकी अधिकारी, उत्तर प्रदेश

मगर अब तक सिर्फ 144 ही पूरे

इसके अलावा वर्ष 2016 -17 में प्रदेश में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की नई परियोजना के अंतर्गत 150 हेबिटेशन (कस्बों) को पक्के मार्ग से जोड़ा जाना था, लेकिन मौजूदा समय में 144 कस्बों में सड़क निर्माण का काम चालू हो सका है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top