भारत के इस गाँव में अजब-गजब टंकियां 

Kushal MishraKushal Mishra   15 Dec 2016 6:00 PM GMT

भारत के इस गाँव में अजब-गजब टंकियां पंजाब के जालंधर के उपल्लां गाँव में घर के ऊपर बनी हवाईजहाज की टंकी।

लखनऊ। भारत में ऐसे कई गाँव हैं, जहां-जहां आपको कुछ न कुछ अजब-गजब जरूर मिलेगा। ऐसा ही एक गाँव है पंजाब में, जहां आप घरों के ऊपर छत पर हवाईजहाज, पानी का जहाज, बैल, गुलाब, बब्बर शेर, घोड़ा, बस, कार, कमल के रूप में कई पानी की टंकियां देख सकते हैं। ऐसे में पंजाब का यह गाँव घरों में बने पानी की टंकियों के लिए दुनिया भर में मशहूर है। आइये आपको इस गाँव के बारे में कई और रोचक जानकारियां बताते हैं।

इस गाँव का नाम है उपल्लां

पंजाब में यह गाँव जालंधर में है और इस गाँव का नाम है उपल्लां। इस गाँव के कई घरों में आप हवाईजहाज, पानी का जहाज के रूप में तरह-तरह की टंकियां देख सकते हैं। असल में इस गाँव के कई लोग पैसा कमाने के लिए विदेश में रहते हैं और इन एनआरआईज ने गाँव में अपनी कोठी को अलग पहचान देने के लिए इस तरह की पानी की टंकियां अपने घरों के ऊपर बनवाई हैं।

ऐसे हुई शुरुआत

गाँव के इस घर में सबसे पहले बनी पानी के जहाज की टंकी।

इस गाँव में सबसे पुरानी है पानी के जहाज की टंकी वाली कोठी। इस कोठी के मालिक 70 वर्ष पहले हांगकांग गए थे। हांगकांग जाने के लिए उन्होंने पानी के जहाज से सफर किया था। अपने परिजनों को अपनी पहली यात्रा के बारे में बताने के लिए उन्होंने अपने कोठी के ऊपर पानी के जहाज की टंकी बनवाई।

फिर शुरू हुआ सिलसिला

बब्बर शेर की टंकी।

इसके बाद गाँव में ऐसे एनआरआईज ने अपनी घर को पहचान देने के लिए अलग-अलग तरह की पानी की टंकियों का निर्माण कराया। ऐसे ही एक रहे गुरुदेव सिंह, जिन्होंने अपने घर की छत पर बब्बर शेर की मूरत बना कर बैठा दी। इसी तरह सिलसिला आगे बढ़ता गया। गाँव में रहने वाले नामी परिवार के लोगों ने अपने घर में तरह-तरह रूप में टंकियों का निर्माण कराया। किसी ने अपने घर में गुलाब बनाकर खुशहाली का संकेत दिया तो किसी ने शेर बनाकर बहादुरी जाहिर की। वहीं, किसी ने घोड़ा बनाकर अपना रूआब दिखाया तो किसी ने हवाइजहाज बनाकर अपनी अलग पहचान दिखाई। ऐसे में भारत के इस गाँव ने घरों के ऊपर टंकियों की विशेषता से दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाई।

बैलों की टंकी।
बाज की बनाई टंकी।
घर के ऊपर बनाई कमल की टंकी।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top