Read latest updates about "गांव कनेक्शन विशेष" - Page 2

  • यूपी में धीमी मौत मर रहे लाखों गाय-बछड़े, जिंदा गायों की आंखें नोच रहे कौए

    अरविंद शुक्ला/दिति बाजपेईलखनऊ/सीतापुर/ललितपुर। 'यहां तड़प-तड़प कर मरने से अच्छा ये गाय बूचड़खाने में चली जाती और एक बार में कट कर मर जाती। कम से कम उनकी यह हालत तो न होती।' लखनऊ में एक गोवंश आश्रय स्थल के सामने गुजर रहे एक बुजुर्ग ने गुस्से में कहा। उन्होंने अपना नाम नहीं बताया लेकिन ये जरुर कहा कि...

  • Pepsico ने गुजरात के आलू किसानों से केस वापस लिया, जानिए क्या था मामला

    लखनऊ। अमेरिका की खाद्य और पेय पदार्थ कंपनी पेप्सिको ने गुजरात के चार किसानों पर लगाए गए मुकदमे को वापस ले लिया है। पेप्सिको इंडिया के प्रवक्ता ने यह जानकारी दी और बताया कि कंपनी ने गुजरात सरकार से बातचीत के बाद यह कदम उठाया है। गांव कनेक्शन से ई-मेल पर बातचीत में पेप्सिको इंडिया के प्रवक्ता ने...

  • खेती से मुनाफा कमाना है तो करें सब्जियों की खेती, रोज मिलेंगे पैसे

    लखनऊ। ज्यादातर किसान परंपरागत तरीके से धान-गेहूं जैसी फसलों की खेती करते हैं, जिससे उन्हें उतना फायदा नहीं हो पाता है। ऐसे में किसान सब्जियों की खेती मुनाफा कमा सकता है। भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (पूसा) नई दिल्ली के प्रधान वैज्ञानिक और सब्जी विशेषज्ञ डॉ. श्रीधर सब्जियों की खेती के बार में बताते...

  • नूरजहां की वह सीख जिसे लता मंगेशकर कभी नहीं भूल पाई

    यतीन्द्र की डायरी' गांव कनेक्शन का साप्ताहिक शो है, जिसमें हिंदी के कवि, संपादक और संगीत के जानकार यतीन्द्र मिश्र संगीत से जुड़े क़िस्से बताते हैं। इस बार के एपिसो़ड में यतीन्द्र ने संगीत की दुनिया के दो सितारों से जु़ड़ा एक प्यारा क़िस्सा बयां किया है।ये क़िस्सा संगीत की दुनिया की उन दो हस्तियों...

  • Ground Report : "नदी के किनारे जन्म लेना हमारे लिए गुनाह साबित हो रहा है"

    रिपोर्ट- अरविंद शुक्ला/दया सागरसीतापुर (उत्तर प्रदेश) । 'यह नदी उसी तरह जमीन काटती है, जिस तरह आरी पेड़ को काटती है। जब इसका (शारदा नदी) प्रकोप आता है तो बच्चे-बूढ़े घर-बार, खेत-खलिहान सभी प्रभावित होते हैं। चौमास (बरसात के चार महीने) में तो हमें अपनी जिंदगी मचान पर बितानी पड़ती है। कामायनी की...

  • 'बाहरियों ने छीन लिया अयोध्या का अमन-चैन'

    अयोध्या (उत्तर प्रदेश)। रामजन्म भूमि विवादित स्थल से महज एक किमी दूर एक मस्जिद का निर्माण पूरी अयोध्या के मन की बात दर्शाता है। जिस ज़मीन पर यह मस्जिद बनाई जा रही है, उसे संत ज्ञानदास ने मुस्लिम समुदाय को दी है और मुस्लिम समुदाय के लोग इसे चंदे से बनवा रहे हैं। इसके कारीगर और मजदूर हिन्दू हैं। ...

  • हर 100 में से 17 लड़कियां दसवीं से पहले छोड़ देती हैं पढ़ाई

    पन्ना, मध्यप्रदेश। भारत में हर साल 100 में से औसतन 17 लड़कियां स्कूल छोड़ देती हैं। ये आंकड़े हाईस्कूल यानी दसवीं कक्षा तक के हैं। शिक्षा शहरों में हमें जितनी अनिवार्य और सुलभ नज़र आती है, गाँव में उतनी ही दुर्लभ और उपेक्षित है। हमारे लिए शिक्षा आधारभूत आवश्यकता है लेकिन गाँव में इसका मोल शायद...

  • AUDIO: गंगा के लिए अनशन करने वाले संत ने कहा- गंगा जी को बेचने में लगे हैं मोदी

    लखनऊ। स्वच्छ एवं निर्मल गंगा के लिए लगभग 182 दिन से अनशनरत ब्रह्मचारी आत्‍मबोधानंद ने घोषणा की है कि वह 27 अप्रैल से जल भी त्‍याग देंगे। केरल के रहने वाले स्‍वामी आत्मबोधानंद हरिद्वार के मातृसदन में अनशनरत हैं। गांव कनेक्‍शन ने आत्‍मबोधानंद से फोन पर बात की है। उनका कहना है कि ''जो नरेंद्र मोदी खुद...

  • नदी देखकर जिनकी रूह कांपती है ...

    घाघरा, शारदा, कोसी और ब्रह्मपुत्र जैसी नदियां हर साल हजारों गांवों के लिए तबाही लेकर आती हैं। गांव के गांव नदी की कटान में कट जाते हैं। यूपी के सीतापुर जिले में दर्जनों गांव ऐसे हैं, नदी जिनका सब कुछ छीन चुकी है। यहां जब-जब नदियों का पानी बढ़ना शुरु होता है, इनकी रुह कांपने लगती है। साल में २-३...

  • आजादी के 72 साल बाद भी बिहार के इस गांव को बुनियादी सुविधाओं का इंतजार

    कैमूर (बिहार)। देश में चुनावी माहौल हमें कई रूप में देखने को मिलता है। चाहे वह विधानसभा चुनाव हो, लोकसभा चुनाव हो या पंचायत स्तर के चुनाव हों। हर बार मुख्य रूप से बिजली, शिक्षा, सड़क और स्वास्थ्य जैसी सुविधाएं मुहैया कराने की बात की जाती है। लेकिन गांव कनेक्शन की टीम ने जब बिहार के कैमूर जिले के एक...

  • मराठवाड़ा का किसान पानी के लिए क्यों तरस रहा है?

    औरंगाबाद (महाराष्ट्र)। खाली पड़े खेत, घरों में लगे ताले, सूखे हैंडपंप, ये हाल है औरंगाबाद जिले के पारुंदी गाँव का, जहां पिछले कुछ वर्षों से लगातार होती कम बारिश ने किसानों की कमर तोड़ दी है। हालत ये है कि अब किसानों को खेती के लिए टैंकर में पानी खरीद कर लाना पड़ता है। महाराष्ट्र के मराठवाड़ा...

  • "यहां गाँव में केवल बूढ़े और घरों पर ताले बचे हैं"

    'यहां कई लोग ऐसे हैं जिनकी मां की मौत हो गई लेकिन वो अन्तिम संस्कार में तक नहीं आ पाए। यहां गाँव में केवल बूढ़े और घरों पर ताले बचे हैं।' अतर्रा, बांदा (उत्तर प्रदेश)। बांदा जिले के खुरहंड गाँव के एक नए बन रहे स्कूल में बैठ कर उमाशंकर पाण्डेय ये बताते हैं। वो बांदा जिले में चावल की मिलों के...

Share it
Top