सीमा पर गोलाबारी से दहशत, स्कूल बंद, कई परिवारों ने किया पलायन

सीमा पर गोलाबारी से दहशत, स्कूल बंद, कई परिवारों ने किया पलायननोशहरा के सीमवर्ती इलाके से भी 17 परिवारों ने अपने घर खाली किए हैं।

जम्मू कश्मीर। राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में बुधवार की देर रात पाक की ओर से की गई भारी गोलाबारी के बाद एलओसी से सटे गांव खाली होने लगे हैं। यहां से ग्रामीणों का विस्थापन शुरू हो गया है। जिला प्रशासन ने नौशेरा शहर में दो कैंप खोले हैं ताकि ग्रामीण सुरक्षित स्थान पर पनाह ले सकें। प्रशासन के आदेश के बाद गुरुवार को एलओसी से सटे गांवों में कक्षा 11 तक के स्कूल भी बंद रहे। ख़बर के मुताबिक भारत की जवाबी कार्रवाई में दो पाक रेंजर घायल हुए हैं व कुछ चौकियों को भारी नुकसान हुआ है। नोशहरा के सीमवर्ती इलाके से भी 17 परिवारों ने अपने घर खाली किए हैं।

अपना घर छोड़ कर स्कूल में आसरा लिए एक व्यक्ति ने बताया कि रात को 10 बजकर 30 मिनट पर गोलाबारी शुरू हुई थी। हम बहुत डर गए थे, हमने सारी रात काफी मुश्किल में गुज़ारी।

पाक की ओर से की गई गोलाबारी में झंगड़ के सरकारी स्कूल की इमारत को नुकसान पहुंचा है। दो बम मिडिल स्कूल के परिसर में गिरे। इसके साथ ही चार-पांच गोले आस पास मैदान में गिरे हैं। इससे स्कूल के कंप्यूटर लैब और क्लास रूम को नुकसान पहुंचा। कई क्लासरूम के दरवाजे तथा खिड़कियां टूट गई हैं। स्कूल का नवनिर्मित बाथरूम भी टूट गया। इस बारे में मंडलायुक्त (डिवकाम) डा. मंदीप भंडारी का कहना है कि स्थिति पर नजर रखी जा रही है। ग्रामीणों की जान माल की हिफाज़त के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। ज्ञात हो कि बुधवार रात पाक गोलाबारी में एक युवती की मौत हो गई थी, जबकि उसका पति जख्मी हुआ था।

डिवकाम डा. मंदीप भंडारी और डीसी डा. शाहिद इकबाल ने प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर स्थिति का आकलन किया, पाकिस्तान ने बुधवार की रात नौशेरा सेक्टर में फिर सीजफायर का उल्लंघन करते हुए अग्रिम चौकियों और रिहायशी इलाकों में जबरदस्त गोलाबारी की। पाकिस्तानी फायरिंग की चपेट में आकर पुखरनी निवासी 35 साल की अख्तर बी की मौत हो गई।

अख्तर के पति मोहम्मद हनीफ गोलाबारी में बुरी तरह जख्मी हो गए, पहले पाकिस्तान ने बुधवार की रात 10:50 बजे के करीब नौशेरा सेक्टर के झांगड़, सेर, मकड़ी इलाके में मोर्टार और अन्य बड़े हथियारों से गोलाबारी की। इसके अलावा लाम सेक्टर के खुखरानी और वंदमोरा इलाके में पाकिस्तानी रेंजरों ने रात 11:30 से रात 3 बजे तक गोले दागे। राजोरी जिला प्रशासन की ओर से एलओसी से सटे गांवों के लोगों को एहतियात बरतने की हिदायत दी गई है। उन्हें घरों से बाहर न निकलने को कहा गया है। साथ ही बच्चों तथा महिलाओं को खासकर सुरक्षित रखने को कहा गया है।

एलओसी पर अप्रैल में छह बार सीजफायर का पाक ने उल्लंघन किया है। एक मई को पाकिस्तानी बैट ने दो जवानों के साथ बर्बरता की। बैट पुंछ जिले के कृष्णा घाटी सेक्टर में 200 मीटर तक अंदर घुस आई थी और हमला कर दो जवानों की निर्मम ढंग से हत्या कर दी थी,. गृह मंत्रालय के अनुसार वर्ष 2015 और 2016 में रोजाना पाक की ओर से ओर से एलओसी पर सीजफायर तोड़ा गया। 2016 में 449 बार और 2015 में 405 बार पाक ने सीजफायर का उल्लंघन किया। इन दो वर्षों में 23 जवानों को जान गंवानी पड़ी। राज्य में 2012 से 2016 तक 1142 आतंकी घटनाएं हुईं जिसमें 236 सुरक्षा बलों के जवान शहीद हुए और 90 नागरिकों को जान गंवानी पड़ी।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top