"सिंचाई के पानी के माध्यम से आर्सेनिक खाने तक पहुंच चुका है.. यह कैंसर और मानसिक बीमारी का कारण बन सकता है"

अशोक कुमार घोष, अध्यक्ष, बिहार राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, प्रोफेसर और विभागाध्यक्ष, महावीर कैंसर संस्थान और अनुसंधान केंद्र, पटना, जिन्होंने राज्य में भूजल में आर्सेनिक पर बड़े स्‍तर पर काम किया है, ने गांव कनेक्‍शन से पीने के पानी में पाए जाने वाले आर्सेनिक के बढ़ते स्‍तर और इससे होने वाले रोगों पर बात की।

Nidhi JamwalNidhi Jamwal   29 Nov 2021 10:33 AM GMT

पटना, बिहार। 21 नवंबर, 2021 तक भारत सरकार के जल जीवन मिशन - हर घर जल कार्यक्रम के अनुसार बिहार में 88.63 प्रतिशत घरों में नल के पानी की आपूर्ति है। यानी बिहार के 17,220,634 घरों में से 15,262,678 घरों में नल कनेक्शन हैं।

हालांकि, राज्य में खतरनाक प्रदूषकों जैसे आर्सेनिक, लोहा और यहां तक ​​कि यूरेनियम के साथ भूजल के दूषित होने पर चिंता बढ़ रही है, जो मानकों से कहीं अधिक है। जबकि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बिहार में आर्सेनिक के मानक तय कर रखे हैं जो एक कार्सिनोजेन में 10 10 माइक्रोग्राम प्रति लीटर निर्धारित है, जबक‍ि मौजूदा स्तर इससे बहुत अधिक है। बिहार के आर्सेनिक प्रभावित जिलों में ग्रामीण आबादी का एक बड़ा हिस्सा जहरीला पानी पीने को मजबूर है।

गांव कनेक्शन के साथ एक साक्षात्कार में बिहार के भूजल में आर्सेनिक खोजने में सहायक वैज्ञानिक अशोक कुमार घोष कहते हैं कि भूजल से कार्सिनोजेनिक आर्सेनिक को पूरी तरह से खत्म करना संभव नहीं हो सकता है। आबादी को स्वच्छ पेयजल की आपूर्ति और एक पौष्टिक आहार उपलब्‍ध कराने के लिए अभी भी एक लंबा रास्‍ता तय करना है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने पानी में आर्सेनिक की मात्रा को निर्धारित की है, जबकि बिहार में आर्सेनिक की मात्रा इस लिमिट से कहीं बहुत ज्यादा है। सभी फोटो: यश सचदेव

गाँव कनेक्शन: आपने बिहार में भूजल प्रदूषण से संबंधित मामलों में वर्षों तक काम किया है। बिहार में भूजल प्रदूषण कितना गंभीर है?

डॉ घोष: जब मैंने 2003-2004 में बिहार में भूजल प्रदूषण पर काम करना शुरू किया तो यह अविश्वास था कि राज्य में भूजल में आर्सेनिक की मात्रा अधिक है। आम राय यह थी कि इस तरह के प्रदूषण केवल पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश में मौजूद थे, और इसे साबित करने के लिए कोई अध्ययन नहीं था। लेकिन फिर हमने यूनिसेफ के सहयोग से शोध करना और सर्वेक्षण करना शुरू किया।

हमने सबसे पहले बिहार के तीन जिलों - पटना, भागलपुर और भोजपुर में उच्च स्तर का आर्सेनिक पाया - उसके बाद वैशाली में। हमें सरकार को बहुत मुश्किल से समझा पाए क‍ि भूजल में आर्सेनिक घुला है, लेकिन अब पूरी दुनिया यह स्वीकार करती है कि बिहार के भूजल में आर्सेनिक की मात्रा अधिक है।

राज्य में आर्सेनिक का स्‍तर कितना गंभीर है?

हमने 2004 से अब तक लगभग 46,000 हैंड पंपों का परीक्षण किया है और उनमें से 30 प्रतिशत में तय सीमा से अधिक आर्सेनिक था।

हमें बक्सर में सबसे ज्यादा 1,906 माइक्रोग्राम प्रति लीटर मिला है। भागलपुर में भोजपुर में 1,475 माइक्रोग्राम प्रति लीटर, 1860 माइक्रोग्राम प्रति लीटर था, जबकि पटना में 960 माइक्रोग्राम प्रति लीटर था। ये हमारे द्वारा परीक्षण किए गए प्रत्येक पंप में नहीं थे, लेकिन ये उच्चतम रीडिंग थे।

हाल ही में, हमने एक इंडो-यूके कार्यक्रम के एक भाग के रूप में एक संयुक्त अध्ययन किया जिसके निष्‍कर्ष चौंकाने वाले हैं।

कल्पना कीजिए कि इसका मानव जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता है, जब विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि अ‍धिकतम स्तर 10 माइक्रोग्राम प्रति लीटर है।

राज्य के कौन से जिले आर्सेनिक से सर्वाधिक प्रभावित हैं?

हमारे शोध में पाया गया कि राज्य के 38 में से 18 जिले अपने भूजल में आर्सेनिक से प्रभावित हैं, जबकि सरकारी आंकड़े इसे 12 पर आंका गया है। केंद्रीय भूजल बोर्ड ने कहा कि यह केवल 12 जिले हैं।

गंगा नदी के दोनों किनारों पर स्थित बस्तियों में सबसे ज्‍यादा आर्सेनिक पाया गया है, विशेष रूप से इसके दक्षिण तट पर, बक्सर से भागलपुर तक जहां पानी में आर्सेनिक की मात्रा काफी अधिक है। तराई क्षेत्र सुपौल और और पूर्वी चंपारण के क्षेत्र भी इसका स्‍तर काफी ज्‍यादा है।

क्या आर्सेनिक, जो एक ज्ञात कार्सिनोजेन है, मानव शरीर में मिल रहा है? स्वास्थ्य की चिंता कितनी गंभीर है?

जब मैंने भूजल में आर्सेनिक के स्तर पर शोध शुरू किया तो मुझसे अक्सर पूछा जाता था कि लक्षण क्या हैं। उस समय लोगों का आर्सेनिक के संपर्क में आना अभी भी नया था। लेकिन जब मैं 2016 में महावीर कैंसर केंद्र में शामिल हुआ तब तक मैंने कई कैंसर रोगियों को देखा और शोध ने पुष्टि की कि कई कैंसर आर्सेनिक प्रदूषण से जुड़े थे।

हाल ही में, हमने एक इंडो-यूके कार्यक्रम के एक भाग के रूप में एक संयुक्त अध्ययन किया जिसके निष्‍कर्ष चौंकाने वाले हैं।


उदाहरण के लिए, भागलपुर में, हमने पाया कि सिंचाई के पानी के माध्यम से आर्सेनिक खाने की चेत तक पहुंच चुका है। आलू, चावल और गेहूं की फसलों, जिनका सबसे अधिक सेवन किया जाता है, में आर्सेनिक की मात्रा अधिक होती है। इसलिए, अधिक मात्रा में आर्सेनिक युक्त पानी पीने और आर्सेनिक के उच्च स्तर वाले खाने का सेवन करने से गंभीर बीमारी का बोझ बढ़ जाएगा।

आर्सेनिक कहाँ से आया है?

स्रोत हिमालय से है। वहाँ बहुत सारे खनिज हैं, उनमें से आर्सेनोपाइराइट है जो लोहे और आर्सेनिक से बना है जो पानी में घुलनशील नहीं है। इसे पहाड़ों के पानी द्वारा नीचे ले जाया जाता है।

जब नदी बहती है या अपना मार्ग बदल देती है और लोग उन क्षेत्रों में रहने लगते हैं, तो आर्सेनोपाइराइट पीछे रह जाता है और लोग इसके संपर्क में आ जाते हैं। आर्सेनोपाइराइट प्रत्यक्ष रूप से किसी को नुकसान पहुंचाए बिना निष्क्रिय रहता है, लेकिन इसका प्रभाव पड़ता है। लेकिन यह 1970 के दशक से पहले की बात है जब लोग अपने उपयोग के लिए खुले कुओं आदि के सतह से आने वाले पानी पर अधिक निर्भर थे।

लेकिन 70 के दशक के बाद, यूनिसेफ, डब्ल्यूएचओ आदि ने अध्ययन किया, तब उन्हे जल स्रोतों से संक्रमित जीवाणु मिला जिससे डायरिया फैला और जो उच्च शिशु मृत्यु दर का कारण बना। इसने भारत को (भारत को तब तीसरी दुनिया माना जाता था) हैंडपंप लगाने के लिए प्रेरित किया।

जल्द ही हैंडपंप बहुत लोकप्रिय हो गए। यह सुविधाजनक था, पानी साफ था (आर्सेनिक रंगहीन, गंधहीन और पानी में दिखाई नहीं देता) और आसानी से पहुँचा जा सकता है। कुओं को छोड़ दिया गया और भूजल का अत्यधिक दोहन होने लगा, जिसने आर्सेनिक के साथ भूजल प्रदूषण में योगदान दिया।


यह अब हमारे लिए एक अंगूठे का नियम है। जहां भी हमें उच्च लौह तत्व का पता चलता है, हम जानते हैं कि उस क्षेत्र में आर्सेनिक होने की संभावना अधिक होती है।

भूजल में आर्सेनिक स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करता है?

आर्सेनिक मानव शरीर पर कहर बरपा सकता है। यह मानव शरीर की एंजाइम प्रणाली को गड़बड़ कर सकता है और डीएनए को प्रभावित कर सकता है जो बदले में त्वचा की स्थिति, पाचन समस्याओं, लीवर की खराबी और दूसरी ओर बच्चों में मानसिक बीमारी और कैंसर का कारण बनता है।

हमने राज्य में आर्सेनिक हॉटस्पॉट में आर्सेनिक और पित्ताशय के कैंसर के बीच सीधा संबंध पाया है। हम फिलहाल इस पर एक पेपर तैयार कर रहे हैं।

क्या आर्सेनिक विषाक्तता प्रतिवर्ती है?

यदि पानी का सेवन करने से पहले फिल्‍टर किया जाए, यदि पर्याप्त साग और एंटीऑक्सीडेंट के साथ लोगों के पोषण का ध्यान रखा जाए, तो इसे रोका जा सकता है। हमने उन गांवों में त्वचा की स्थिति आदि में सुधार देखा है जहां सतही जल को फिल्‍टर किया गया है। बेशक यह महसूस करना महत्वपूर्ण है कि यह तब तक संभव है जब तक आर्सेनिक विषाक्तता से कैंसर नहीं हुआ है, एक बार हो गया तो वहां से वापस लौटना मुश्‍किल है।

उपाय क्या है?

कोई पूर्ण समाधान नहीं है। उच्च आर्सेनिक की समस्या को पूरी तरह जड़ से खत्म करना मुश्किल है। क्या किया जा सकता है कि पौष्टिक आहार के साथ-साथ आबादी को सुरक्षित पेयजल सुनिश्चित किया जाए। यह प्रभाव की गंभीरता को कम कर सकता है। लेकिन यह एक विकट समस्या है।


क्या जल स्रोतों से आर्सेनिक को हटाया जा सकता है?

हमें दूषित पानी से आयरन और आर्सेनिक दोनों को हटाना होगा। यह याद रखना होगा कि बिहार के भूजल में आर्सेनिक फैक्ट्री प्रदूषकों या कीटनाशकों के कारण नहीं है। यह एक भूगर्भीय समस्या है जो मानवजनित गतिविधि (भूजल के अत्यधिक दोहन) से बढ़ जाती है।

अगर हम जल स्रोतों का जिम्मेदारी से उपयोग करते, सतही जल का उपयोग जारी रखते और पूरी तरह से भूजल में नहीं बदलते, तो चीजें इतनी खराब नहीं होतीं।

क्या लोगों को कुएं के पानी में वापस जाने के लिए राजी करने में कोई प्रगति हुई है?

हम जहां भी कर सकते हैं, हमने लोगों को अपने कुएं साफ करने और उस पानी का उपयोग करने की सलाह दी है। हमें खुले कुओं और सतह के पानी में आर्सेनिक का कोई निशान नहीं मिला।

यह एक कठिन कार्य है। लोगों को कुएं से पानी निकालने की श्रमसाध्य प्रक्रिया में वापस जाने के लिए मनाना बहुत मुश्किल है, खासकर तब जब उनके घर के बाहर हैंडपंप से पानी का विकल्‍प मौजूद हो।

जब हम उन्हें बताते हैं कि कुएं का पानी हैंडपंप के पानी से ज्यादा साफ है, तो गांव के 60 और 70 के दशक के बुजुर्ग हम पर हंसते हैं. "जब हमने कुएं के पानी का इस्तेमाल किया, तो आपने हमें हैंडपंप बदलने के लिए मजबूर किया। अब आप हमें कुओं के पास वापस जाने के लिए कह रहे हैं, "वे पूछते हैं।

क्या कोई जागरुकता उपाय किए जा रहे हैं?

हम कैंसर अस्पताल में रिवर्स ट्रेसिंग कर रहे हैं। हमारे अस्पताल में हर साल लगभग 25,000 कैंसर रोगी आते हैं। जब यह निश्‍चित हो जाता है कि एक मरीज को कैंसर है और उसके खून, बालों और नाखूनों में आर्सेनिक के अंश पाए जाते हैं, तो हम उनके गांव में पानी की जांच करते हैं कि उसमें आर्सेनिक की मात्रा अधिक है या नहीं।

कैंसर के कई कारण हैं और हम अभी भी डेटा एकत्र करने की प्रक्रिया में हैं कि उनमें से कितने सीधे आर्सेनिक से जुड़े हैं।

कोई तकनीकी हस्तक्षेप?

सुरक्षित पानी उपलब्ध कराने के लिए बहुत सारी तकनीक है। समस्या उस तकनीक को ग्रामीण क्षेत्र में स्थानांतरित करने में है। वैज्ञानिक परीक्षण और सर्वेक्षण कर सकते हैं, लेकिन समय की मांग है कि सामाजिक वैज्ञानिक वास्तव में जमीनी स्तर पर बदलाव ला सकें।

हमने बिहार में ऐसा होते देखा है। जब यह बिना किसी संदेह के निश्चित हो गया कि भूजल में आर्सेनिक है, तो बहुत सारा पैसा खर्च किया गया और कई कंपनियों ने सफाई परियोजनाओं के लिए संयंत्र स्थापित किए, जिनमें से अधिकांश विफल हो गए। तभी हमने महसूस किया कि ग्रामीण क्षेत्रों में किसी भी तकनीक की सफलता के लिए सामुदायिक भागीदारी महत्वपूर्ण है।

21 नवंबर, 2021 तक भारत सरकार के जल जीवन मिशन - हर घर जल कार्यक्रम के अनुसार बिहार में 88.63 प्रतिशत घरों में नल के पानी की आपूर्ति है। यानी बिहार के 17,220,634 घरों में से 15,262,678 घरों में नल कनेक्शन हैं। फोटो: जल जीवन मिशन

2012 में हमने पानी से आयरन और आर्सेनिक को हटाने के लिए एक HAIX उपचार सुविधा की स्थापना की। तकनीक ज्यादातर यांत्रिक और सरल है। यह अभी भी आर्सेनिक मुक्त पानी उपलब्ध करा रहा है। हमने इकाई की देखभाल एक बुजुर्ग किसान को सौंपी जो यह सुनिश्चित करता है कि यह काम करने की स्थिति में है। ऐसे कामो के लिए सामुदायिक भागीदारी की आवश्यकता होती है।

अब आगे क्या?

आदर्श रूप से व्यवहार में परिवर्तन होना चाहिए। लोगों को गांव में कुओं को पुनर्जीवित करने और साफ करने और वहां से पानी पीने के लिए, उपयोग के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

सुरक्षित रहने का और भी आसान तरीका है, लेकिन यह थकाऊ है। हमने ग्रामीणों से कहा है कि अगर उन्हें हैंडपंप का इस्तेमाल करना है तो वे पानी इकट्ठा करें और इसे एक पतले कपड़े से ढककर एक दिन के लिए बाहर छोड़ दें, फिर इसे छानकर पी लें। इस तरह आर्सेनिक ऑक्सीकृत हो जाता है और पानी साफ हो जाता है।

बिहार में जमीन के अंदर पानी तीन स्‍तर हैं, उथले, मध्य और गहरे। आर्सेनिक प्रदूषण सबसे अधिक उथले और मध्य स्तरों में होता है जहां से भूजल को पंप किया जाता है। गहरा स्तर अभी भी दूषित है और हमें इसे उसी तरह रखना चाहिए। लेकिन, जैसा कि मैंने कहा, इसके लिए व्यवहार परिवर्तन की आवश्यकता है जो कठिन है।


उस पानी का क्या जो हर घर जल योजना के माध्यम से हर घर को देने का वादा किया जा रहा है? क्या वह पानी सुरक्षित है?

सरकार के मन में पानी की गुणवत्ता है, लेकिन इस समय उसका मुख्य जोर हर गांव और घर में पानी पहुंचाने पर है और, यह समस्या केवल आर्सेनिक नहीं है। बिहार में यूरेनियम की मात्रा या फ्लोराइड की भी समस्या है...

लेकिन हां, पानी की मात्रा और गुणवत्ता दोनों के लिए एक व्यापक योजना होनी चाहिए। सभी को पानी उपलब्ध कराने की हड़बड़ी से बीमारी का बोझ नहीं बढ़ना चाहिए।

खबर को पंकजा श्रीनिवासन ने लिखा है

अंग्रेजी में खबर पढ़ें

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.