बाढ़ से जूझ रहे हैं ग्रामीण, नहीं पहुंच पा रही है सरकारी मदद

अख्तर अली, कम्युनिटी जर्नलिस्ट

भागलपुर (बिहार)। भागलपुर के सुल्तानगंज में बाढ़ पीड़‍ित सरकारी सहायता से वंचित है। यहां दर्जनों गांव में पानी घुस गया है, लोग अपने घर छोड़ने पर मजबूर हो गए हैं। वहीं ग्रामीणों का आरोप है कि प्रशासन को जानकारी होने के बाद उनका कोई हाल खबर नहीं लिया जा रहा है।

लगातार वर्षा के कारण कारण तिलक पुर, महेशी, अब्जुगंज, गणगनिया और किशनपुर पंचायतों में एनएच 80 के उत्तरी भाग में गंगा का जलस्तर बढ़ गया है। इससे हजारों घरों में पानी प्रवेश कर गया है। स्‍थानीय लोगों का कहना है कि गंगा का जल स्तर दो से तीन फीट बढ़ने पर एनएच 80 की सड़क के ऊपर से पानी बहने लगेगा।

तिलक पुर पंचायत मुखिया प्रतिनिधि विभीषण मंडल ने कहा, "वार्ड एक से छह तक और नौ से पंद्रह तक करीब दो हजार की आबादी बाढ़ के चपेटे में है। इससे लोग सड़क के किनारे शरण ले रहे हैं। कन्या मध्य विद्यालय एवं प्राथमिक विद्यालय एसजी टोला में भी बाढ़ का पानी आने से बच्चों की भी पढ़ाई बंद हो गई है। पंचायत के उत्तरी भाग बाढ़ से प्रभावित है लेकिन वहां कोई सरकारी व्यवस्था नहीं मिल पा रही है।"

ये भी पढ़ें- बिहार में बाढ़ः 13 जिलों के 85.60 लाख लोग प्रभावित, अब तक 127 की मौत


अब्जुगंज पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि राकेश कुमार ने कहा, "वार्ड नंबर एक, पांच, छह, आठ, नौ एवं चौदह के लोग बाढ़ की चपेट में है। इससे करीब सात हजार परिवार सरकारी सहायता से वंचित हैं। सरकारी व्यवस्था के अंचला अधिकारी को सूची दे दी गई है।"

भाजपा उपाध्यक्ष विकास कुमार ने कहा, "गंगा का जलस्तर दिन पर दिन बढ़ते जा रहा है। अब्जुगंज के कई वार्ड बाढ़ से प्रभावित है।" नीरज पासवान पूर्व प्रखण्ड अध्यक्ष ने बताया कि नगर परिषद क्षेत्र के वार्ड नंबर आठ के काशिमपुर में सौ घर बाढ़ के चपेट में है।"

खैरिया पंचायत समिति सदस्य पूनम देवी ने बताया कि खैरिया पंचायत में वार्ड नंबर चार को छोड़कर सभी वार्ड बाढ़ से प्रभावित हैं। प्रखण्ड राजद अध्यक्ष मो० मेराज ने बताया कि कई पंचायत बाढ़ की चपेट में है। सरकारी सहायता नहीं मिल पाई है, सरकार से मांग की जा रही है कि लोगों को जल्द से जल्द राहत सामग्री प्रदान की जाए।

अंचला अधिकारी शशिकांत कुमार ने कहा, "सात पंचायत बाढ़ की चपेट में है। जिसकी सूची जिला अध‍िकारी को भेजी जा रही है, आदेश आने पर बाढ़ पीड़ितों के लिए उचित व्यवस्था की जाएगी। हालांकि राहत के लिए तत्काल नाव की व्यवस्था की गई है। जिससे लोग ऊंचे जगह पर जाकर शरण ले सके।"

ये भी पढ़ें - बिहार बाढ़ ग्राउंड रिपोर्ट: 'साहब लोग बिस्किट और माचिस दे गए थे, खाने का तीन दिन से इंतजार है'


इस मामले को लेकर विधायक सुबोध राय ने फोन पर बताया कि बाढ़ पीड़ितों के लिए सरकार मुस्तैद है। आपदा प्रबंधक के प्रभारी एडीएम से दूरभाष पर बातचीत कर तत्काल राहत देने की बात कही गई है, जल्द से जल्द बाढ़ पीड़ित लोगों को राहत समाग्री पहुंचाई जाएगी।"

स्‍थानीय निवासी ओम प्रकाश सिंह‍ कहते हैं, "बड़हरा क्षेत्र की गंगा खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। करीब 10 पंचायत बाढ़ के चपेट में है। गंगा का पानी कई गांव के मुख्य मार्ग से ऊपर बह रहा है। जिससे उनका जिला मुख्यालय से संपर्क टूट गया है और आवागमन पूरी तरह से बाधित हो गया है।"

स्‍थानीय निवासी अभय कुमार बताते हैं कि बाढ़ के कारण ग्रामीणों की पूरी फसल बर्बाद हो गई है। लोगों बेघर हो गए ह‍ै, यहां लोगों के पास किसी प्रकार की कोई सुविधा नहीं है। अचानक अगर किसी को तबीयत खराब होती है तो मौके पर कोई डॉक्‍टर भी नहीं मिलेगा।

पटना सिटी एसडीओ राजेश रोशन ने कहा, "बाढ़ पीड़‍ित लोग ओवर लोडिंग करके इधर उधर आ जा रहे हैं। गंगा का जल स्‍तर बहुत ऊपर हो गया, इससे नाव पलटने से भी हादसा हो सकता है। ऐसे में कोशिश की जा रही है कि कोई भी नाव ओवरलोड न होकर जाए। बाकी लोगों के राहत कार्य जारी है।"

ये भी पढ़ें- बिहार: बाढ़ की त्रासदी के बीच फरिश्ता बन गये ये तीन युवा, बचाई 40 से ज्यादा लोगों की जान

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top