मिर्च की खेती ला रही किसानों के जीवन में मिठास

Virendra SinghVirendra Singh   8 May 2019 6:02 AM GMT

बाराबंकी (उत्तर प्रदेश)। स्वाद में तीखी पर किसानों के जीवन में हरी मिर्च की खेती मिठास घोल रही है। यहां से मिर्च उत्तर प्रदेश के कई शहरों में तो जाती है साथ ही दुबई तक जाती है। किसान मिर्च के साथ दूसरी फसलों की खेती कर दोगुना मुनाफा कमाते हैं।

बाराबंकी जिला मुख्यालय से 38 किलोमीटर उत्तर दिशा में स्थित नगर पंचायत बेलहरा में बड़े पैमाने पर हरी मिर्च की खेती करने वाले श्रीचंद मौर्य बताते हैं, "हमने इस बार भी करीब 2 एकड़ क्षेत्रफल में हरी मिर्च और लहसुन की सहफसली खेती की है। सितंबर के अंत में और अक्टूबर के प्रथम सप्ताह में हम लहसुन की बुवाई कर देते हैं अक्टूबर में ही हम मिर्च की नर्सरी कर देते हैं जिसकी जनवरी के प्रथम सप्ताह में खेतों में रोहित कर दिया जाता है मार्च में लहसुन की फसल तैयार हो जाती है और लहसुन की खुदाई करके खेतों से लहसुन की फसल को निकाल लेते हैं।"

आगे बताते हैं कि लहसुन की फसल तैयार होने के बाद हम नाली बना कर मिर्च के पौधों पर मिट्टी चढ़ा देते हैं, ताकि मई-जून में तेज आंधी आने पर हमारी मिर्च की फसल को नुकसान ना हो मिट्टी चढ़ाते वक्त हम थोड़ी बहुत खाद भी पौधे को दे देते हैं और सिंचाई कर देते है।


वो आगे कहते हैं, "एक एकड़ में करीब 20 कुंतल लहसुन का उत्पादन हो जाता है इससे हमारी पूरी लागत निकल आती है मिर्च की फसल हमें एक हिसाब से मुफ्त में मिलती है हरी मिर्च का उत्पादन भी अप्रैल में शुरू हो जाता है जो अगर अधिक बरसात ना हो तो सितंबर तक लगातार उत्पादन होता रहता है।"

जिला उद्यान अधिकारी महेंद्र कुमार बताते हैं, "इस बार हरी मिर्च की खेती का दायरा बड़ा है करीब अट्ठारह सौ पचास हेक्टेयर क्षेत्रफल में हरी मिर्च की खेती बाराबंकी जिले में की जा रही है प्रति हेक्टेयर लगभग 260 कुंटल औसतन मिर्च का उत्पादन होता है। करीब 500000 कुंटल हरी मिर्च का उत्पादन अकेले बाराबंकी जिला करता है हरी मिर्च और लहसुन की खेती को बढ़ावा देने के लिए उद्यान विभाग द्वारा 13150 रुपए प्रति हेक्टेयर अनुदान दिया जाता है।

आगे श्री चंद और बताते हैं कि हरी मिर्च का उत्पादन औसतन 120 कुंतल तक होता है लेकिन अच्छे किसान अपने खेतों में करीब प्रति एकड़ 200 कुंटल तक का उत्पादन करते हैं

लागत और मुनाफे के बारे में आगे बताते हैं कि एक एकड़ खेती में करीब 20000 रुपए की लागत लग जाती है जो हमारी लहसुन से ही निकल आती है इस साल लहसुन और हरी मिर्च दोनों का भाव अभी अच्छा चल रहा है जिससे हमें उम्मीद है कि हर साल की अपेक्षा इस बार हमें अच्छा मुनाफा मिलेगा पिछली बार लहसुन बड़ा सस्ता बिका था और हरी मिर्च का भी रेट कुछ अच्छा नहीं रहा था पर अब की बार ऐसा नहीं लगता है की भाव गिरेगा जिससे अच्छा मुनाफा होने की उम्मीद है

ये भी पढ़ें : अमरूद की बागवानी करने वाले किसानों को यहां मिलेगी पूरी जानकारी

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top