Top

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में कहा- राज्यों से अनुरोध है कि वो लॉकडाउन को अंतिम विकल्प रूप में इस्तेमाल करें

देश में कोरोना को लेकर मचे हाहाकार के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को संबोधित कर रहे हैं। देखिए वीडियो

ऑक्सीजन प्रॉड्कशन और सप्लाई बढ़ाने पर जोर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, "इस बार कोरोना संकट में देश के अनेक हिस्से में ऑक्सीजन की डिमांड बहुत ज्यादा बढ़ी है। इस विषय पर तेजी से और पूरी संवेदनशीलता के साथ काम किया जा रहा है। केंद्र सरकार, राज्य सरकारें, प्राइवेट सेक्टर, सभी की पूरी कोशिश है कि हर जरूरतमंद को ऑक्सीजन मिले।"

उन्होंने आगे कहा कि "ऑक्सीजन प्रॉडक्शन और सप्लाई को बढ़ाने के लिए भी कई स्तरों पर उपाय किए जा रहे हैं। राज्यों में नए ऑक्सीजन प्लांट्स हों, एक लाख नए सिलेंडर पहुंचाने हों, औद्योगिक इकाइयों में इस्तेमाल हो रही ऑक्सीजन का मेडिकल इस्तेमाल हो, ऑक्सीजन रेल हो, हर प्रयास किया जा रहा है।"

दुनिया की सबसे सस्ती वैक्सीन भारत के पास- पीएम

पीएम मोदी ने कहा कि हमारे वैज्ञानिकों ने दिन-रात एक करके बहुत कम समय में देशवासियों के लिए vaccines विकसित की हैं। आज दुनिया की सबसे सस्ती वैक्सीन भारत में है। भारत की कोल्ड चेन व्यवस्था के अनुकूल वैक्सीन हमारे पास है। यह एक टीम अफर्ट है, जिसके कारण हमारा भारत, दो made in India vaccines के साथ दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू कर पाया। टीकाकरण के पहले चरण से ही गति के साथ ही इस बात पर जोर दिया गया कि ज्यादा से ज्यादा क्षेत्रों तक, जरूरतमंद लोगों तक वैक्सीन पहुंचे। दुनिया में सबसे तेजी से भारत में पहले 10 करोड़, फिर 11 करोड़ और अब 12 करोड़ वैक्सीन के doses दिए गए हैं।

शहरों की वर्क फोर्स के लिए ओपन वैक्सीन

कल ही वैक्सीनेशन को लेकर एक और अहम फैसला लिया गया है। एक मई के बाद से, 18 वर्ष के ऊपर के किसी भी व्यक्ति को वैक्सीनेट किया जा सकेगा। अब भारत में जो वैक्सीन बनेगी, उसका आधा हिस्सा सीधे राज्यों और अस्पतालों को भी मिलेगा। हम सभी का प्रयास, जीवन बचाने के लिए तो है ही, प्रयास ये भी है कि आर्थिक गतिविधियां और आजीविका, कम से कम प्रभावित हों। वैक्सीनेशन को 18 वर्ष की आयु के ऊपर के लोगों के लिए Open करने से शहरों में जो हमारी वर्कफोर्स है, उसे तेजी से वैक्सीन उपलब्ध होगी।

ये भी पढ़ें- पलायन पार्ट-2 - "पिछले साल एक हफ्ते का लॉकडाऊन था, लेकिन 3 महीने चला था, यहां भूखे मरने से अच्छा घर चले जाएं?"

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.