Top

गन्ने पर जंग की तैयारी

गन्ने पर जंग की तैयारीगाँव कनेक्शन

मेरठ। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मौसम का पारा जहां एक ओर गिर रहा है वहीँ राजनैतिक पारा चढ़ना शुरू हो गया है। 

गन्ना किसानो की समस्याओ को लेकर भारतीय किसान यूनियन ने तो आंदोलन की चेतावनी देते हुए जिला मुख्यालयों पर धरना प्रदर्शन शुरू भी कर दिए हैं वही राष्ट्रीय लोक दल के राष्ट्रीय महासचिव जयंत चौधरी के आह्वान पर पार्टी के नताओं और कार्यकर्ताओ ने आगामी 12 जनवरी से सड़कों पर उत्तर जाम रैल रोको घेराव आदि का ऐलान कर तैयारियां शुरू कर दी हैं जिस से गन्ना समस्या को लेकर टकराव के आसार बढ़े हैं। 

भारतीय किसान यूनियन जिला केंद्रों में अपने पशुओं को साथ लेकर बेमियादी धरना आरम्भ करेगी वहीं राष्ट्रीय लोकदल अपनी ताकत दिखायेगा। किसानो की पार्टी वा यूनियन दोनों ही गन्ने के समर्थन मूल्य के घोषित न होने और बकाया भुगतान न होने पर चक्का जाम करने की चेतावनी दी। 

भारतीय किसान यूनियन के बैनर के नीचे आज मेरठ कलेक्ट्रेट स्थित धरना स्थल पर यूनियन के कुछ किसान जुटे जिन्होंने धरना देना शुरू कर दिया।

अन्य संगठनों ने भी किसानों के हक की लड़ाई को तेज करने का फैसला किया है। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत ने वर्ष 2016 को किसान क्रांति वर्ष के रूप में मनाये जाने की घोषणा की है। उन का कहना है, ‘‘किसान के मसलों पर केंद्र वा राज्य सरकारों के उदासीन रवैये को देखते हुए सड़कों पर उतर जमकर विरोध किया जायेगा। अभी तक गन्ने का समर्थन मूल्य(खरीद दाम) तय नहीं करना सरकारों की किसानो के प्रति लापरवाही को साबित करता है।’’ 

गन्ना संकट व धान खरीद नहीं होने जैसे मुद्दों पर भाकियू के कार्यकर्ता जिला केंद्रों का घेराव कर रहे हैं। मांगें पूरी नहीं होने पर आंदोलन को जेल भरो अभियान में बदल दिया जाएगा। दूसरी ओर राष्ट्रीय लोकदल भी किसानों के मुद्दे पर सरकार से आर पार की जंग करने के लिए अपने आप को तैयार बता रही है। 

राष्ट्रीय लोक दल पश्चिमी उत्तर प्रदेश प्रभारी डॉक्टर राजकुमार सांगवान का कहना है कि आगामी 12 जनवरी को सरकार और मिल मालिको की मिली भगत के खिलाफ सम्पूर्ण गन्ना बेल्ट के जिलों में धरना प्रदर्शन किया जाएगा। 

रिपोर्टर - सुनील तनेजा

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.