गुरुजी चुनाव ड्यूटी पर, बच्चे घर पर

गुरुजी चुनाव ड्यूटी पर, बच्चे घर परचुनाव ड्यूटी,सरकारी अध्यापक

लखनऊ। सरकारी और सहायता प्राप्त स्कूलों की पढ़ाई का स्तर हमेशा से सवालों के घेरे में रहता है और इसके लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार ठहराए जाते हैं गुरुजी। लेकिन स्कूलों में बच्चों को पढ़ाने की जिम्मेदारी के साथ गुरुजी के पास कई अन्य काम हैं, जिनको पूरा करने की जिम्मेदारी उनको न चाहते हुए भी निभानी ही पड़ती है क्योंकि इसको निभाने का फरमान सरकार द्वारा जारी किया जाता है।

अब स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई हो या न हो या फिर एक शिक्षक पूरे स्कूल के बच्चों को पढ़ाने की जिम्मेदारी निभाए लेकिन सरकारी फरमान तो मानना ही है। पढ़ाने के साथ ही स्कूलों में बच्चों की भरपूर उपस्थिति बनाए रखने के लिए जद्दोजहद कर रहे गुरुजी के सिर पर अब नगर निकाय चुनाव और विधान सभा चुनाव में मतदाता सूची के पुनरीक्षण के कार्यों की तैयारी की जिम्मेदारी भी आन पड़ी है। 

नगर निकाय चुनाव और विधानसभा चुनाव में मतदाता सूची के पुनरीक्षण के कार्यों की तैयारी शुरू हो चुकी है। इन चुनावों की तैयारियों में प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक विद्यालय शिक्षकों की ड्यूटी लगा दी गई है। विधान सभा चुनाव के लिए शिक्षकों की ड्यूटी पहले से ही लगा दी गयी थी और अब नगर निकाय चुनाव के लिए भी शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गयी हैं।

हाल यह है कि नगर क्षेत्र के जोन एक के विद्यालयों में 100 फीसदी शिक्षकों की ड्यूटी लगायी गई है। इस क्षेत्र के पांच हजार से अधिक छात्रों को कोई पढ़ाने वाला तक नहीं है। यह तो केवल बानगी है। माल, गोसाईगंज, मलिहाबाद, काकोरी, बीकेटी, सरोजनीनगर, मोहनलालगंज, चिनहट क्षेत्र के कई स्कूलों में छात्रों को पढ़ाने के लिए एक भी शिक्षक नहीं बचा है।

नगर क्षेत्र में 197 प्राथमिक विद्यालय और 57 पूर्व माध्यमिक विद्यालय हैं। नगरक्षेत्र जोन एक व दो के खण्ड शिक्षा अधिकारी शिवनंदन सिंह के अनुसार, जोन एक में 23 पूर्व माध्यमिक विद्यालय और 62 प्राथमिक विद्यालय हैं, जिसमें से जोन एक में 100 फीसदी टीचर, बाबू, कर्मचारी और अधिकारी की ड्यूटी लगाई गई है।जोन दो में 178 स्कूल हैं, जिसमें से करीब 80 शिक्षकों की ड्यूटी चुनाव में लगाई गई है।

पूर्व माध्यमिक विद्यालयों में नगर क्षेत्र में 57 विद्यालयों में से 29 विद्यालयों के सभी शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गई है। यहां के स्कूलों में पढ़ाने के लिए शिक्षक नहीं बचे हैं। माल, गोसाईगंज, मलिहाबाद, काकोरी, बीकेटी, सरोजनीनगर, मोहनलालगंज, चिनहट क्षेत्र के स्कूलों का हाल भी बुरा है।

चिनहट ब्लॉक में प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक 106 विद्यालय हैं। जिसमें 340 शिक्षक हैं। इनमें से 286 शिक्षकों की ड्यूटी नगर निकाय चुनावों में लगाई गई है। जुगौर में 11 में से आठ शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गयी है तो वहीं तिवारी गंज में पढ़ाने वाले दो शिक्षकों में से दोनों की ड्यूटी लगाई गयी है। 

इसके साथ ही चिनहट ब्लॉक में 57 स्कूलों में एक भी शिक्षक नहीं हैं। यहां हजारों बच्चों का भविष्य दांव पर लगा है। गोसाईंगंज में 542 में से 169 शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गई हैं। माल में 800 में से 153 शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गयी है। यहां 141 प्राथमिक और 49 पूर्व माध्यमिक विद्यालय हैं, जिसमें 15 हजार छात्र-छात्राएं पढ़ते हैं।

वहीं सरोजनी नगर में 166 प्राथमिक और 69 पूर्व माध्यमिक विद्यालयों में पढ़ाने वाले 154 शिक्षकों की ड्यूटी भी विधान सभा चुनावों में लगायी गयी है तो वहीं 228 शिक्षकों की ड्यूटी नगर निकाय चुनावों के लिए लगा दी गई है। इसके चलते करीब 30 फीसदी स्कूलों में एक भी शिक्षक पढ़ाने के लिए नहीं बच पायेगा और यहां पढ़नें वाले करीब 18 हजार बच्चे कुछ समय तक पढ़ाई से वंचित रह जाएंगे। काकोरी के 142 विद्यालयों में 450 शिक्षक हैं, इनमें से 210 शिक्षकों की ड्यूटी चुनाव में लग गई है।  यहां करीब दस स्कूलों में 12 हजार बच्चों की पढ़ाई चुनाव की तैयारियों की भेंट चढ़ जाएगी। 

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top