हाईटेक बनेगा यूपी सरकार का फायर ब्रिगेड डिपार्टमेंट

हाईटेक बनेगा यूपी सरकार का फायर ब्रिगेड डिपार्टमेंटgaon connection, गाँव कनेक्शन

लखनऊ। प्रदेश में आग की घटनाओं पर लगाम कसने के लिए राज्य सरकार 65 दमकल गाड़ियों में जीपीएस सिस्टम इंस्टॉल करने जा रही है।

जीपीएस सिस्टम से लैस सभी 65 गाड़ियां अब 24 घंटे कंट्रोल रूम से जुड़ी रहेंगी। आग की ख़बर मिलते ही कंट्रोल रूम हादसे वाली जगह से सबसे नज़दीक की दमकल गाड़ी को इसकी सूचना देगा। फायर डिपार्मेंट के मुताबिक़ इससे फायर ब्रिगेड को घटनास्थल पर पहुंचने में कम वक्त तो लगेगा ही साथ ही आग से होने वाले नुकसान को भी कम किया जा सकेगा। डीजी फायर आलोक प्रसाद के मुताबिक ''आग की बढ़ती घटनाओं पर रोक लगाने के लिए अग्निशमन विभाग जागरुकता अभियान चला रहा है''। यह अभियान 29 फरवरी तक चलाया जाएगा।

इस अभियान के दौरान शहर की बड़ी इमारतों, स्कूलों, हॉस्पिटल्स और भीड़-भाड़ वाले इलाकों में मॉक ड्रिल कराई जाएगी साथ ही लोगों को आग से निपटने के तरीके भी बताए जाएंगे। अग्नि सुरक्षा पाक्षिक अभियान के दौरान शहर के कई इलाकों में मॉक ड्रिल कराई गई। हजरतगंज फायर स्टेशन ने शालीमार स्टार, फायर स्टेशन आलमबाग ने अजंता हॉस्पिटल, फायर स्टेशन चौक ने केके हॉस्पिटल, फायर स्टेशन इंद्रा नगर ने बादल अपार्टमेंट, फायर स्टेशन पीजीआई ने पार्क इन्थीनिया, फायर स्टेशन गोमतीनगर ने ट्यूलिप-इन, फायर स्टेशन सरोजनी नगर ने होटल माधव मुकुंद और फायर स्टेशन बख्शी ने उद्योग समिति सोप फैक्ट्री में मॉक ड्रिल कराई।डीजी फायर आलोक प्रसाद ने बताया कि गर्मी में बढ़ने वाली आग की घटनाओं के लिए प्रदेशभर में 75 अस्थाई फायर स्टेशन भी बनाए जाएंगे जिससे आग की घटनाओं को कम करने में मदद मिलेगी।

उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में 13 करोड़ से अधिक की आबादी रहती है और आग से जुड़े हादसे भी इन्हीं इलाकों में होते हैं। 60 फीसदी आग की घटनाएं मार्च से जून के बीच होती हैं। फायर ब्रिगेड डिपार्मेंट के मुताबिक़ इंडस्ट्रियल और रिहायशी इलाकों में इज़ाफ़ा होने की वजह से आग की घटनाओं में बढ़ोतरी दर्ज़ की गई है। 2015 में 30 हजार छोटी बड़ी आग की घटनाओं की सूचना मिली। 2014 में यह आंकड़ा 29 हज़ार 498 था। 2013 में 29 हज़ार 656 आग की घटनाओं की सूचना फायर डिपार्टमेंट को मिलीं। 2012 में आग की 32 हज़ार 896 घटनाएं दर्ज़ की गईं।  

 आग लगने से हुए हादसे 

वर्ष मौत घायल 

2005

2006

2007

2008

2009

2010

2011

2012

2013

2014

556

656

667

876

682

898

953

806

764

284

1736

1947

2275

2418

2245

3189

3090

2452

2088

923

Tags:    India 
Share it
Top