गन्ने का जूस ना पिएं, बल्कि गन्ना चबाएं

Deepak AcharyaDeepak Acharya   30 May 2019 8:45 AM GMT

गन्ना हिन्दुस्तान के अनेक प्रांतों में उगाया जाता है। गन्ने की खेती को एक प्रमुख आय का जरिया माना जाता है। गन्ने के रस से गुड़ और चीनी तैयार की जाती है। गन्ने को चबाकर खाया जाना काफी गुणकारी होता है। भागती दौड़ती जिंदगी में लोग इसे चबाने के बजाए इसके रस का सेवन पसंद करते हैं। अहमदाबाद जैसे शहर में तो बाकायदा गन्नों को छीलकर उसके छोटे-छोटे टुकड़े करके बेचा जाता है। गाँव देहातों में बुजुर्ग मानते हैं कि गन्ने को चबाकर खाया जाए तो इसके अधिक से अधिक गुणों का लाभ लिया जा सकता है।

गन्ने में कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन, मैग्नीशियम और फास्फोरस जैसे आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं। गन्ने में हड्डि‍यां मजबूत करने की ताकत होती है और यह दांतों की समस्याओं में भी काफी कारगर होता है। गन्ने चबाकर खाया जाए तो इसके रस के साथ में पोटैशियम की मात्रा हमारे शरीर के पाचनतंत्र तक पहुंच जाती है। पाचन को दुरुस्त बनाए रखने के लिए यह बहुत फायदेमंद है। यह रस पाचन सही रखने के साथ-साथ पेट में संक्रमण होने से भी बचाता है। गन्ने के रस के साथ पेट में गए फाइबर कब्ज की समस्या को भी दूर करते हैं।

ये भी पढ़ें: मुंह के छाले से बचाएगा ये गुणकारी फल: हर्बल आचार्य

आयरन व कार्बोहाइड्रेट की प्रचुर मात्रा होने की वजह से गन्ने का रस शक्तिवर्धक होता है और यह स्फूर्ति प्रदान करता है। इसमें ढेर सारे खनिज तत्व व ऑर्गेनिक एसिड्स भी पाए जाते हैं। गन्ने को दांतों से चूसकर खाने से कमजोर दांत मजबूत होते हैं, मसूड़ों की अच्छी खासी कसरत हो जाती है। यह दांतों को मजबूत करने का एक बेहतरीन उपाय है।

गन्ने में स्वाद और सेहत का असली मज़ा तो है ही इसे चबाकर खाया जाए तो दांतो की सफाई भी खूब हो जाती है। इसी तरह की नायाब जानकारियों को देखने के लिए हमारे शो को फॉलो करें और गाँव कनेक्शन के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब भी करें।गन्ने का जूस ना पियें, बल्कि गन्ना चबाएं।

ये भी पढ़ें: लेमनग्रास टी पीने के इन फायदों के बारे में जानते हैं आप

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top