हिन्दू धर्म में होते हैं सबसे अधिक बाल विवाह

हिन्दू धर्म में होते हैं सबसे अधिक बाल विवाहgaonconnection

नई दिल्ली। बाल विवाह गैर कानूनी होने के बावजूद भारत में करीब एक करोड़ 20 लाख बच्चों की शादी 10 साल की उम्र में हो चुकी है। हाल ही में सेंसस द्वारा जारी नए आंकड़ों में यह दावा किया गया है। 

जनगणना के आंकड़ों के मुताबिक बाल विवाह करने वालों में सबसे ज्यादा 84 प्रतिशत हिंदू हैं और बाकी 11 प्रतिशत मुस्लिम समुदाय से हैं। इन बच्चों में अधिकतर लड़कियां हैं।

बाल विवाह की इस खाई में सबसे ज्यादा लड़कियों को ही झोंका जा रहा है। हिंदू समुदाय में करीब 70 लाख 84 हजार (65%) लड़कियों की शादी 10 साल की उम्र में ही करवा दी जाती है। मुस्लिम समुदाय में यह आंकड़ा 58.5 प्रतिशत है।

सेंसस के मुताबिक भारत में जैन समुदाय में लड़कियों की शादी की औसत उम्र 20.8 साल है, इसाइयों में 20.6 साल है, सिख महिलाओं की शादी 19.9 साल में की जाती है। हिंदू और मुस्लिम समुदाय में लड़कियों की शादी की औसत उम्र सबसे कम है 16.7 साल। ये आंकड़े सात राज्यों में सर्वे के आधार पर पेश किए गए हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक ग्रामीण लड़कियों और शहरी लड़कियों की शादी में दो साल का अंतर पाया गया है। ग्रामीण लड़कियों के मुकाबले शहरी की लड़कियों की शादी दो साल देर से होती है।

80 प्रतिशत निरक्षर लड़कियों की हो जाती है कम उम्र में शादी

करीब 50 लाख चार हजार (44%) शादीशुदा बच्चे निरक्षर हैं, इनमें भी 80 प्रतिशत लड़कियां है। इसका सीधा असर उनकी शारीरिक और मानसिक स्तर पर पड़ता है। 

Tags:    India 
Share it
Share it
Share it
Top