होटलों में दाल से ज़्यादा पनीर खाने लगे लोग

होटलों में दाल से ज़्यादा पनीर खाने लगे लोग

इटावा। भोजन की थाली से धीरे-धीरे अरहर की दाल कम होती जा रही है। आसमान छूते दाल के दामों ने आम आदमी के साथ-साथ होटल संचालकों के लिए परेशानियां खड़ी कर दी हैं।

एक माह पूर्व दाल के दाम सौ से सवा सौ रुपए के बीच थे। धीरे-धीरे दाम बढ़ते गए और अब दाल 220 रुपए प्रति किलोग्राम पर पहुंच गए। अब स्थितियां ये हो गई हैं कि घरों में अरहर की दाल हफ्ते के एक-दो बार ही बन पा रही है। कमोवेश ऐसे ही हालात होटलों के भी हो गए हैं। 50 से 70 रुपए प्लेट मिलने वाली दाल अब 90 से सौ रुपए प्रति प्लेट पर पहुंच गई है।

शहर में शीला टॉकीज के पास कृष्णा होटल संचालित करने वाले पप्पू यादव बताते है, ''70 रुपए प्लेट दाल हम लोगों को देते थे। अब दाल के रेट दो सौ रुपए से अधिक हो गए हैं ऐसे में हमें सौ रुपए प्रति प्लेट दाल के दाम करने पड़े। पहले दाल फ्राई, दाल हांडी आदि के कई ग्राहक आते थे लेकिन अब दाम बढ़ाने के बाद ग्राहकों की संख्या खासी कम हो गई है।" वो आगे बताते है, ''पनीर की सब्जी एक सौ बीस रुपए प्लेट है तो ग्राहक दाल की बजाए पनीर को तवज्जो दे रहे हैं। लेकिन पहले जितने लोग दाल खाने आते थे उनमें से करीब पचास प्रतिशत लोगों ने अब आना छोड़ दिया है।'' 

अरहर की दाल के अलावा उरद 70 से 140, दाल मूंग 60 से 100 तथा चना दाल 50 से 70 रुपए प्रति किलोग्राम के हिसाब से बेची जा रही है। स्टेशन रोड पर नानक होटल है। यहां अभी तक सत्तर रुपए की थाली दी जाती थी, लेकिन दालों के बढ़ते दामों ने यहां की थाली को सौ रुपए प्रति प्लेट पर पहुंचा दिया। होटल के मालिक पंपन सिंधी बताते है, ''कभी सोचा भी न था कि दालों के दाम दो सौ रुपए को पार कर जाएंगे। दालों के महंगे होने का असर हम लोगों पर सबसे अधिक पड़ा है। सत्तर की थाली अब सौ रुपए की करनी पड़ी। पैसा अधिक तो कर दिया लेकिन अब ग्राहकों की संख्या में गिरावट आ गई है। लोग दाल की अपेक्षा पनीर और नॉनवेज अधिक पसंद कर रहे हैं।"

रिपोर्टर - मसूद तैमूरी 

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top